Sunday, January 24, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

किसान आंदोलन LIVE - गाजीपुर बॉर्डर पर किसान ने फांसी लगाई , शौचालय में फंदा लगाकर की खुदकुशी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किसान आंदोलन LIVE - गाजीपुर बॉर्डर पर किसान ने फांसी लगाई , शौचालय में फंदा लगाकर की खुदकुशी

नई दिल्ली । कृषि बिल के विरोध में किसानों का आंदोलन 38वें दिन भी बदस्तूर जारी है । दिल्ली में 1.1 डिग्री तक तापमान पहुंचने के बावजूद किसान अपनी मांगों को लेकर डटे हुए हैं । शनिवार को बारिश और कड़ाके की ठंड के बीच किसानों का  सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर , गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का प्रदर्शन जारी है । इसी क्रम में कृषि कानूनों के खिलाफ गाजियाबाद में दिल्ली बॉर्डर पर किसानों के धरने में शामिल एक किसान ने धरनास्थल पर बने शौचालय में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली । 

बता दें कि किसान और सरकार के बीच सातवें दौर की बातचीत में पूरा समाधान तो नहीं निकला लेकिन विवाद के दो मुद्दों पर सहमति बन गई ।  किसानों और सरकार के बीच अब 4 जनवरी को अगली बैठक है । ऐसी संभावना है कि इस बार किसानों और सरकार का गतिरोध खत्म हो जाएगा । कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कहा है कि उन्हें भरोसा है कि 4 जनवरी को सकारात्मक नतीजे आएंगे । 


हालांकि इस बीच किसानों ने साफ किया है कि उन्हें कृषि कानून वापस लिए जाने से कम मंजूर नहीं । कृषि कानून वापस लिए जाने तक आंदोलन जारी रहेगा।

इसी क्रम में पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम ने कहा है कि किसानों की जरूरत और उनकी इच्छा का ध्यान रखा जाना चाहिए । उन्होंने कहा है कि सरकार को ये कानून लंबित रखते हुए पुनर्विचार के लिए सहमत हो जाना चाहिए ।  

Todays Beets: