Sunday, January 17, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

किसानों ने संशोधित प्रस्ताव भी ठुकराया , राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्ष के नेता राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालेंगे

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किसानों ने संशोधित प्रस्ताव भी ठुकराया , राहुल गांधी के नेतृत्व में विपक्ष के नेता राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालेंगे

नई दिल्ली । कृषि बिल के विरोध में किसानों का दिल्ली के बॉर्डर पर जारी आंदोलन जारी है । सरकार के प्रतिनिधियों के साथ किसान नेताओं की बातचीत अब तक बेनजीता रही है । किसानों एक बार फिर से सरकार की ओर से बनाए गए संशोधित प्रस्ताव को भी ठुकरा दिया है । किसानों का कहना है कि सरकार बिना किसी शर्त के साथ बातचीत की टेबल पर आए । आंदोलन कर रहे किसानों के संगठन और उनके नेता बदस्तूर बिल को रद्द करने की मांग कर रहे हैं , लेकिन सरकार ने भी साफ कर दिया है कि वह बिल रद्द नहीं करेगी । इस सारे हो हल्ले को विपक्ष राजनीतिक रूप से भुनाने की जुगत में जुटा है । इसी क्रम में कांग्रेस नेता राहुल गांधी की अगुवाई में विपक्ष मार्च निकालने जा रहा है ।

बता दें कि कृषि बिल को लेकर किसानों और सरकार के बीच जारी गतिरोध खत्म होने का नाम नहीं ले रहा है । हालांकि कुछ किसान संगठनों ने इस बिल को रद्द करने की मांग की है , वहीं देश के अन्य हिस्सों से अब कई किसानों ने सरकार के कृषि बिल के समर्थन में अपनी आवाज उठाना शुरू कर दिया है । 

इस सबके बीच विपक्षी दलों के कई नेता गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी के नेतृत्व में राष्ट्रपति भवन तक मार्च निकालेंगे । कांग्रेस नेता राहुल गांधी एक बार फिर कृषि कानूनों के मसले पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करेंगे, उनके साथ विपक्ष कसे अन्य कई नेता भी होंगे ।  जिसके बाद करीब दो करोड़ किसानों के हस्ताक्षर वाला पत्र राष्ट्रपति को सौंप कानून वापसी की अपील होगी । ये मुलाकात सुबह करीब 11.30 पर होगी । 


वहीं किसानों के द्वारा अब से थोड़ी देर बाद एक बार फिर प्रेस वार्ता की जाएगी । इसमें किसान अपने आंदोलन का कारण बताएंगे । किसान मोर्चा की ओर से अपने डिजिटल प्लेटफॉर्म पर वेबिनार का आयोजन किया जा रहा है, ताकि अगर लोगों के कुछ सवाल हो तो वो जवाब दे सकें ।

जहां कई किसान संगठनों के नेता और किसान कृषि बिल का विरोध कर रहे हैं , वहीं किसानों के आंदोलन के बीच आज किसान सेना के समर्थक और किसान कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर से मुलाकात करेंगे । किसान सेना नए कृषि कानूनों पर अपना समर्थन देगी ।बीते दिन सिंघु बॉर्डर पर 40 से अधिक किसान संगठनों की बैठक हुई, जिसमें सरकार के प्रस्ताव को नकार दिया गया । किसानों ने सरकार को लिखकर नया प्रस्ताव देने की बात कही है, जिसपर विचार किया जाएगा । 

Todays Beets: