Friday, January 22, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

LIVE - कोंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे पर किसान का टैक्टर मार्च , कई किमी लंबा जाम , यूपी -हरियाणा बॉर्डर पर जाने से बचें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - कोंडली-मानेसर-पलवल एक्सप्रेसवे पर किसान का टैक्टर मार्च , कई किमी लंबा जाम , यूपी -हरियाणा बॉर्डर पर जाने से बचें

नई दिल्ली । कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों ने गुरुवार को अपना टैक्टर मार्च निकाला । सुबह के समय आंदोलन कर रहे किसान संगठन आज कोंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेसवे पर ट्रैक्टर मार्च निकालने सड़कों पर उतरे । इसी क्रम में केएमपी एक्सप्रेस-वे पर किसानों का ट्रैक्टर मार्च शुरू हो गया है । दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर पर डटे किसान अपने ट्रैक्टर को लेकर एक्सप्रेस-वे पर पहुंचे हैं । किसानों का यह प्रदर्शन कल यानी 8 जनवरी को सरकार के साथ 9वें दौर की बैठक से पहले दबाव की रणनीति के मद्देनजर भी किया जा रहा है । इसके चलते हाईवे पर जाम की स्थिति पैदा हो गई है । इस सबके चलते बॉर्डर पर कई किमी लंबा जाम लग गया है । 

हरियाणा और गाजियाबाद की पुलिस ने एडवाइजरी जारी की है और एक्सप्रेसवे के ट्रैफिक को डायवर्ट किया है । हरियाणा से आने वाली गाड़ियां करनाल और पानीपत की ओर से यूपी की तरफ डायवर्ट की गई हैं । 

बता दें कि कृषि बिलों का विरोध कर रहे किसानों ने गुरुवार को दिल्ली के बॉर्डर पर टैक्टर मार्च निकालने का ऐलान किया था । इसके साथ ही दिल्ली बॉर्डर पर सुबह सुबह भारी संख्या में कुछ किसान संगठनों ने लोग टैक्टर पर बैठकर मार्च निकालते नजर आए । सिंघु के पास कोंडली बॉर्डर पर किसानों का जत्था अपने ट्रैक्टर के साथ मार्च निकाल रहा है । 

दिल्ली के अलग-अलग बॉर्डर से किसानों का जत्था कोंडली-मानेसर-पलवल (केएमपी) एक्सप्रेस-वे के लिए रवाना हुआ । किसान संगठनों ने 12 बजे से केएमपी एक्सप्रेसवे को जाम करने की कोशिश की । हालांकि इस दौरान सुरक्षा के कड़े इंतजाम देखे गए । केएमपी एक्सप्रेसवे पर पुलिस और अर्धसैनिक बलों की भारी संख्या में तैनाती की गई थी । 

एक्सप्रेसवे पर किसानों की ट्रैक्टर रैली से पहले पंजाब के कई शहरों में ट्रैक्टर मार्च निकाला गया । दरअसल, 26 जनवरी को किसानों ने ट्रैक्टर रैली का ऐलान किया है जिसके लिए घर-घर जाकर लोगों को जागरुक करने का काम किया जा रहा है । आज की रैली के लिए महिलाओं का बड़ा जत्था ट्रैक्टर पर सवार होकर पहले ही टिकरी बॉर्डर पहुंच चुका है ।


बता दें कि 8 जनवरी को किसानों की सरकार के साथ 9वें दौर की बातचीत तय है, लेकिन इससे पहले आज किसान बड़ा प्रदर्शन कर रहे हैं । अगर कल होने वाली बैठक में भी कोई ठोस नतीजा नहीं निकलता है तो 9 जनवरी को कृषि कानून की कॉपी जलाने की तैयारी है । साथ ही 9 जनवरी से ही हरियाणा में किसान संगठन घर-घर जाकर लोगों से संपर्क शुरु करेंगे और 26 जनवरी के दिन दिल्ली में ट्रैक्टर परेड की चेतावनी दी गई है । 

इस सारे मामले में भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि ट्रैक्टर रैली 26 जनवरी की तैयारी है । हमारा रूट यहां से डासना है, उसके बाद अलीगढ़ रोड पर हम रुकेंगे वहां लंगर होगा फिर वहां से हम वापस आएंगे और नोएडा वाले ट्रैक्टर पलवल तक जाएंगे । हम सरकार को समझाने के लिए ये कर रहे हैं । 

इसी क्रम में गाजियाबाद के एडीएम (सिटी) शैलेन्द्र कुमार सिंह ने कहा कि पहले किसान पलवल तक ट्रैक्टर रैली निकालने वाले थे, लेकिन अब वे नोएडा तक ही जाएंगे और गाजीपुर लौटेंगे. पर्याप्त पुलिस बल तैनात है और वीडियो रिकॉर्डिंग की जा रही है ।  

इससे इतर , डीएमके नेता एमके स्टालिन ने किसाानों के समर्थन में ट्वीट करते हुए मोदी सरकार पर निशाना साधा. उन्होंने कहा कि जब आप करोड़ों रुपये खर्च करके नई संसद बना सकते हैं, तो किसानों का कर्ज क्यों नहीं माफ कर सकते हैं?

Todays Beets: