Friday, February 26, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

किसानों का देशव्यापी चक्का जाम सांकेतिक ही नजर आया , दिल्ली में नहीं घुसा कोई किसान 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
किसानों का देशव्यापी चक्का जाम सांकेतिक ही नजर आया , दिल्ली में नहीं घुसा कोई किसान 

नई दिल्ली । कृषि कानूनों के विरोध में आंदोलन कर रहे किसानों ने 1 फरवरी को सांसद मार्च का रद्द करने के बाद 6 फरवरी को देशव्यापी चक्का जाम का ऐलान किया था । गत 26 जनवरी को किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान जिस तरह से उपद्रव हुआ , उसे ध्यान में रखते हुए शनिवार को दिल्ली पुलिस के साथ ही देश में कई जगहों पर अलर्ट जारी किया गया था , लेकिन इस बार किसानों का यह देशव्यापी चक्का जाम मात्र सांकेतिक ही नजर आया । देश के कुछ ही इलाकों में किसानों का यह चक्का जाम मात्र कुछ देर के लिए नजर आया । इस बीच दिल्ली (Delhi) में शहीदी पार्क के सामने प्रदर्शन करने आए 60 लोगों को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने हिरासत में लिया है । ये सभी लोग लेफ्ट का झंडा लेकर आईटीओ (ITO) पर प्रदर्शन कर रहे थे । हालांकि भारतीय किसान यूनियन ने अपने इस चक्का जाम को सफल करार दिया । वहीं भाजपा ने कहा कि विफल चक्का जाम से साफ हो गया कि दिल्ली बॉर्डर तक सीमित इस किसान आंदोलन कितना देशव्यापी है । ढाई राज्यों से बाहर यह आंदोलन नहीं चल पा रहा है ।

बता दें कि कृषि कानूनों (Farm Bills) के खिलाफ किसानों का देशव्यापी चक्का जाम खत्म हो गया है । . यूपी और उत्तराखंड को छोड़कर देश के बाकी राज्यों में दोपहर 12 बजे देशव्यापी चक्का चाम के दौरान किसानों ने हरियाणा पंजाब में कुछ जगहों पर सड़कों पर जाम लगाया । दिल्ली में गणतंत्र दिवस जैसी कोई अप्रिय घटना न हो इसके लिए दिल्ली पुलिस ने में भी सुरक्षा के खास इंतजाम किए गए थे । 


कृषि कानूनों के खिलाफ अपने आंदोलन के तेज करते हुए किसानों ने आज दिल्ली, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड को छोड़कर अन्य सभी राज्यों में चक्का जाम करने का ऐलान किया था । लेकिन राकेश टिकैत के इस फैसले के खिलाफ जाकर कुछ लोग आईटीओ के पास हाथों में झंडा लेकर प्रदर्शन करने पहुंचे। वहां प्रदर्शन की जिद्द पर अड़े इन लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया । ये सभी वामपंथी महिला संगठन की सदस्य हैं जिसका नाम जनवादी महिला समिति है । इसके अलावा दिल्ली में जेएनयू के छात्रों के साथ भी कुछ वामपंथियों के एक ग्रुप ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन किया । इसके बाद प्रदर्शनकारियों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया । 

हालांकि इससे पहले दिल्ली पुलिस ने हिंसा भड़कने की आशंका के चलते विश्वविद्यालय मेट्रो स्टेशन, मंडी हाउस, आईटीओ, लाल क़िला, जामा मस्जिद, जनपथ, केंद्रीय सचिवालय और दिल्ली गेट मेट्रो स्टेशन के एंट्री और एक्सिट गेट को बंद करा दिया था । इस सबसे इतर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि हम सरकार से बात करने के लिए तैयार हैं , सरकार हमसे बात करे । 

Todays Beets: