Thursday, June 30, 2022

Breaking News

   मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, कुलगाम में बैंक मैनेजर की हत्या में शामिल था: IGP कश्मीर     ||   जालंधर: अरविंद केजरीवाल के दौरे से पहले दीवारों पर लिखे मिले खालिस्तान के सपोर्ट वाले स्लोगन     ||   पुलिस लॉरेंस बिश्नोई को लेकर मोहाली पहुंची, अज्ञात जगह हो रही पूछताछ     ||   राष्ट्रपति चुनाव: ममता बनर्जी की मीटिंग में जाएंगे मल्लिकार्जुन खड़गे और जयराम रमेश     ||   दिल्ली: कांग्रेस कार्यकर्ताओं का उग्र प्रदर्शन, बैरिकेड तोड़े, टायर जलाए     ||   सुवेंदु अधिकारी समेत निलंबित भाजपा विधायकों ने पश्चिम बंगाल विधानसभा में धरना दिया     ||   18 जून को 100 साल की हो जाएंगी नरेंद्र मोदी की मां हीराबा, मिलने जाएंगे पीएम     ||    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा , सोनिया को लिखे पत्र में राहुल- राम मंदिर तक का जिक्र

हार्दिक पटेल ने कांग्रेस से दिया इस्तीफा , सोनिया को लिखे पत्र में राहुल- राम मंदिर तक का जिक्र

अहमदाबाद । गुजरात में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले कांग्रेस को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है । इस साल के अंत में होने वाले विधानसभा चुनावों से पहले गुजरात में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया है । कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) को पत्र लिखकर उन्होंने पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है । खुद हार्दिक ने इसकी जानकारी ट्वीट करके दी है । उन्होंने अपने ट्वीट में लिखा - आज मैं हिम्मत करके कांग्रेस पार्टी के पद और पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से इस्तीफा देता हूं।  मुझे बड़े दुःख के साथ कहना पड़ता है कि आज गुजरात में हर कोई जानता है कि किस प्रकार कांग्रेस के बड़े नेताओं ने जानबूझकर गुजरात की जनता के मुद्दों को कमजोर किया है और इसके बदले में स्वयं बड़े आर्थिक फायदे उठाए हैं ।

राजनीति में सक्रिय हर शख्स का धर्म होता है

हार्दिक पटेल ने इस दौरान कहा कि राजनीति में सक्रिय हर व्यक्ति का धर्म होता है कि जनता के लिए कार्य करता रहे, लेकिन अफसोस की बात है कि कांग्रेस पार्टी गुजरात की जनता के लिए कुछ अच्छा करना ही नहीं चाहती । इसीलिए जब मैं गुजरात के लिए कुछ करना चाहता था तो पार्टी ने सिर्फ मेरा तिरस्कार ही किया । इसलिए मैंने पार्टी छोड़ने का फैसला लिया है । 

गुजरात की जनता मेरे साथी फैसले का स्वागत करेंगे

अपने ट्वीट में हार्दिक पटेल ने लिखा -  मुझे विश्वास है कि मेरे इस निर्णय का स्वागत मेरा हर साथी और गुजरात की जनता करेगी. मैं मानता हूं कि मेरे इस कदम के बाद मैं भविष्य में गुजरात के लिए सच में सकारात्मक रूप से कार्य कर पाऊंगा । उन्होंने आगे लिखा - कई प्रयासों के बाद भी कांग्रेस पार्टी द्वारा देशहित एवं समाज हित के बिल्कुल विपरीत कार्य करने के कारण कुछ बातें आपके ध्यान में लाना बहुत आवश्यक हो गया है । 


युवा एक सक्षम और मजबूत नेतृत्व चाहते हैं

उन्होंने आगे लिखा, 'यह 21वीं सदी है और भारत विश्व का सबसे युवा देश है ।  देश के युवा एक सक्षम और मजबूत नेतृत्व चाहते हैं । पिछले लगभग 3 सालों में मैंने यह पाया है कि कांग्रेस पार्टी सिर्फ विरोध की राजनीति तक सीमित रह गई है, जबकि देश के लोगों को विरोध नहीं, एक ऐसा विकल्प चाहिए जो उनके भविष्य के बारे में सोचता हो, देश को आगे ले जाने की क्षमता रखता हो । 

कांग्रेस के नेतृत्व को खारिज कर रही जनता

उन्होंने कहा - अयोध्या में प्रभु श्रीराम का मंदिर हो, CAA-NRC का मुद्दा हो, जम्मू-कश्मीर से धारा 370 हटाना हो अथवा जीएसटी लागू करने जैसे निर्णय हों, देश लंबे समय से इनका समाधान चाहता था और कांग्रेस पार्टी सिर्फ इसमें एक बाधा बनने का काम करती रही । भारत देश हो, गुजरात हो या मेरा पटेल समाज हो; हर मुद्दे पर कांग्रेस का स्टैंड सिर्फ केंद्र सरकार का विरोध करने तक ही सीमित रहा । कांग्रेस को लगभग देश के हर राज्य में जनता ने रिजेक्ट इसीलिए किया है, क्योंकि कांग्रेस पार्टी और पार्टी का नेतृत्व जनता के समक्ष एक बेसिक रोडमैप तक प्रस्तुत नहीं कर पाया। 

शीर्ष नेतृत्व में गंभीरता की कमी 

हार्दिक पटेल ने सोनिया गांधी को लिखी अपनी चिट्ठी में कहा - दुख होता है जब हम जैसे कार्यकर्ता अपनी गाड़ी से अपने खर्च पर दिन में 500-600 किलोमीटर तक की यात्रा कर हैं, जनता बीच जाते हैं और फिर देखते हैं कि गुजरात के बड़े नेता जनता के मुद्दों से दूर सिर्फ इस बात पर ध्यान देते हैं कि दिल्ली से आए हुए नेता को उनका चिकन सैंडविच समय पर मिला या नहीं । युवाओं के बीच मैं जब भी गया तो सभी ने एक ही बात कही कि आप ऐसी पार्टी में क्यों हो, जो हर प्रकार से गुजरातियों का सिर्फ अपमान ही करती है, चाहे वह उद्योग के क्षेत्र में हो, चाहे धार्मिक क्षेत्र में हो, चाहे राजनीति के क्षेत्र से हो । मुझे लगता है कि कांग्रेस पार्टी ने युवाओं का भी भरोसा तोड़ा है, जिसके कारण आज कोई भी युवा कांग्रेस के साथ दिखना भी नहीं चाहता ।'

Todays Beets: