Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

मोरबी केबल ब्रिज हादसा : मरने वालों की संख्या 141 पहुंची , देखें CCTV की नजर से पूरा हादसा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मोरबी केबल ब्रिज हादसा : मरने वालों की संख्या 141 पहुंची , देखें CCTV की नजर से पूरा हादसा

मोरबी । गुजरात के मोरबी में रविवार को केबल ब्रिज के टूटने के चलते हुए हादसे में अब तक 141 लोगों की मौत की पुष्टि हो गई है , जबकि 100 से ज्यादा लोग गंभीर रूप से घायल हैं । इस ब्रिज की मरम्मत और इसे चलाने का अनुबंध करने वाली कंपनी के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज हुआ है । फिलहाल इस हादसे की जांच की जा रही है । सरकार ने पीड़ित परिवारों को 6-6 लाख रुपये का मुआवजा देने की घोषणा की है । वहीं इस ब्रिज की मरम्मत और इस कुछ दिन पहले ही लोगों के लिए खोलने पर सवाल उठ रहे हैं । इस बीच इस ब्रिज के टूटने पर सियासी बयानबाजी भी तेज हो गई है ।

माच्छू नदी पर बना था केबल ब्रिज

बता दें कि गुजरात के मोरबी शहर में रविवार की शाम माच्छू नदी पर बने केबल पुल के टूटने से मरने वालों की संख्या बढ़कर 141 हो गई है । यह पुल करीब एक सदी पुराना था और मरम्मत एवं नवीनीकरण कार्य के बाद इसे आमजन के लिए पांच दिन पहले ही खोला गया था । गुजरात के गृह राज्य मंत्री हर्ष संघवी ने कहा कि राज्य सरकार ने इस हादसे की जांच के लिए एक समिति का गठन किया है । हैंगिंग ब्रिज'' जिस समय टूटा, उस समय उस पर कई महिलाएं और बच्चे मौजूद थे । एक प्रत्यक्षदर्शी ने बताया कि कुछ लोगों को पुल पर कूदते और उसके बड़े तारों को खींचते हुए देखा गया। 

5 दिन पहले ही खोला गया था ब्रिज

असल में लोगों के लिए पर्यटन की नजर से अहम इस मोरबी पुल को पिछले दिनों 2 करोड़ रुपये की मरम्मत के बाद 5 दिन पहले ही खोला गया था । सामने आ रहा है कि इस पुल को दोबारा से खोलने के लिए नगर निगम से कोई मंजूरी तक नह ली गई थी । 

घटना की जांच शुरू


राज्य के गृह मंत्री हर्ष संघवी ने सोमवार, 31 अक्टूबर 2022 को बताया कि आईजीपी रैंक के अधिकारी के नेतृत्व में इसकी जांच शुरू कर दी गई है । उन्होंने बताया है कि सभी रातभर राहत बचाव के काम में लगे रहे । नौसेना, एनडीआरएफ, एयर फोर्स और आर्मी के जवान घटना के बाद तत्काल मौके पर पहुंचे । रातभर करीब 200 से ज्यादा जवान तलाशी और राहत कार्यों में लगे रहे । 

हादसे से जुड़ी 10 बड़ी बातें

- मोरबी हादसे को लेकर जो आंकड़े सामने आ रहे हैं उनके अनुसार , जिन 141 लोगों की मौत की पुष्टि हुई है उनमें 40 बच्चे शामिल हैं । 

- भाजपा सांसद मोहन कुंदरिया के परिजनों की भी इस हादसे में मौत हुई है । सांसद मोहन कुंदरिया की बहन के परिवार के 12 सदस्यों की मौत हो गई । रिश्तेदार बहन की जेठानी के परिवार के सदस्यों, चार बेटियों, चार दामाद और बच्चों की मौत हो गई । 

- हादसे के बाद गुजरात सरकार ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है. हादसे से जुड़ी जानकारी के लिए 02822243300 नंबर पर कॉल कर पता किया जा सकता है । 

- सेना, नौसेना, वायुसेना, एनडीआरएफ और फायर ब्रिगेड की टीमें मौके पर सर्च ऑपरेशन चला रही है । गुजरात पुलिस की मरीन टास्क फोर्स ने रातभर मच्छु नदी में रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया । 

- मच्छु नदी पर बने इस पुल का इतिहास करीब 140 साल पुराना था । इस पुल की बात करें तो यह गुजरात के प्रमुख टूरिस्ट प्लेस में से एक बन गया था । यहां रोज बड़ी संख्या में लोग घूमने आते थे क्योंकि ये पुल हवा में झूलता रहता था और यह बिल्कुल ऋषिकेश के राम और लक्ष्मण झूले जैसा पुल था इसलिए बड़ी संख्या में लोग यहां आते थे । 

- रविवार को इस पुल पर आने वाले करीब 400 लोग थे , जिन्होंने टिकट लिए थे । एक साथ इतनी संख्या में लोग इस पुल पर चढ़ गए , जिसके चलते ब्रिज टूटकर गिर गया । 

 

Todays Beets: