Wednesday, September 30, 2020

Breaking News

   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||   अभिनेत्री कंगना रनौत-बीएमसी मामले में सुनवाई स्थगित     ||   सुशांत केस - जांच में देरी पर CBI बोली - हम हर एंगल की बारीकी और प्रोफेशनल तरीके से कर रहे हैं जांच    ||   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||

एडीएन ने फिर दिखाई अपनी ताकत , जदयू के हरिवंश सिंह दूसरी बार चुने गए राज्यसभा के उपसभापति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
एडीएन ने फिर दिखाई अपनी ताकत , जदयू के हरिवंश सिंह दूसरी बार चुने गए राज्यसभा के उपसभापति

नई दिल्ली । भाजपा के नेतृत्व वाले एनसीए ने सोमवार को फिर से अपनी ताकत दिखाई । असल में जनता दल यूनाइटेड के नेता हरिवंश सिंह फिर से राज्यसभा के उपसभापति चुन लिए गए हैं । उन्होंने विपक्ष की ओर से इस पद के लिए खड़े हुए आरजेडी उम्मीदवार और सांसद मनोज झा को हराया । हरिवंश सिंह दूसरी बार इस पद के लिए चुने गए हैं ।  राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने इसका ऐलान करते हुए कहा कि हरिवंश को राज्यसभा का डिप्टी चेयरमैन (उपसभापति) चुना गया है । उन्हें ध्वनि मत से चुना गया है । उनके राज्यसभा का उपसभापति चुने जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उन्हें बधाई दी है । 

बता दें कि हरिवंश सिंह  का जन्म 30 जून 1956 को बिहार के बलिया जिले के सिताबदियारा गांव में हुआ था । जेपी आंदोलन से प्रभावित माने जाने वाले हरिवंश ने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए और पत्रकारिता में डिप्लोमा की पढ़ाई की और अपने कैरियर की शुरुआत टाइम्स समूह से की थी । 

इतना ही नहीं उन्होंने साप्ताहिक पत्रिका धर्मयुग में वर्ष 1981 तक बतौर उपसंपादक काम किया और बाद में उन्होंने पत्रकारिता छोड़ दी । वर्ष 1981 से 1984 तक हैदराबाद और पटना में बैंक ऑफ इंडिया में नौकरी की ।  साल 1984 में एक बार फिर हरिवंश ने पत्रकारिता में वापसी की और साल 1989 तक आनंद बाजार पत्रिका की सप्ताहिक पत्रिका रविवार में सहायक संपादक रहे । 


इसके बाद वह एक बड़े मीडिया समूह से जुड़े जहां उन्हें लंबा समय मीडिया में ही बिताया । इस दौरान वह जदयू प्रमुख नीतीश कुमार के करीब आए और बाद में वह राजनीति में आ गए । नीतीश ने उन्हें पार्टी में महासचिव का पद दिया । साल 2014 में जेडीयू ने हरिवंश को राज्यसभा के लिए नामांकित किया और इस तरह से हरिवंश पहली बार संसद तक पहुंचे । 

पीएम मोदी ने उनके दोबारा उपसभापति चुने जाने पर कहा - मैं हरिवंशजी जो दूसरी बार इस सदन का उपसभापति चुने जाने पर बधाई देता हूं ।  सामाजिक कार्यों और पत्रकारिता के जरिए हरिवंशजी ने एक ईमानदार पहचान बनाई है. इसके लिए मेरे मन में उनक प्रति काफी सम्मान है । 

वहीं कांग्रेस के राज्यसभा सांसद गुलाम नबी आजाद ने कहा, “यह दूसरी बार है जब उन्हें सदन के उपाध्यक्ष के रूप में चुना गया है । मैं उन्हें बधाई देता हूं । 

Todays Beets: