Thursday, October 22, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

हाथरस कांड - यूपी में दंगा भड़काने की साजिश में PFI - भीम आर्मी के बाद अब एक खनन माफिया का भी नाम उजागर

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाथरस कांड - यूपी में दंगा भड़काने की साजिश में PFI - भीम आर्मी के बाद अब एक खनन माफिया का भी नाम उजागर

हाथरस । देश के बहुचर्चित हाथरस कांड के बाद यूपी में दंगे करवाने की साजिश का खुलासा लगातार हो रहा है । दंगों की साजिश के तार जहां पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (PFI) से लेकर भीम आर्मी से जुड़ रहे हैं । वहीं अब नया खुलासा हुआ है कि इस मामले में विदेश से फंडिंग के साथ ही खनन माफिया से जुड़े लोगों के जुड़ने के सबूत भी जांच एजेंसियों के साथ लगे हैं । पुलिस ने पिछले कुछ दिनों की जांच के बाद अब यह निष्कर्ष निकाला है कि विदेशों से दंगा भड़काने के लिए आया पैसा यूपी में दंगा करवाने की साजिश रचने वालों तक पहुंचाया गया । मॉरिशस से इसी क्रम में 50 करोड़ रुपये आ भी गया था । 

विदित हो कि यूपी की योगी सरकार को बदनाम करने की साजिश का खुलासा करते हुए यूपी पुलिस ने दंगा भड़काने की साजिश और कई अन्य धाराओं के तहत मथुरा से 4 लोगों को गिरफ्तार किया है । बताया जा रहा है कि इन चारों का संबंध पीएफआई से है । इन लोगों के पास से काफी आपत्तिनजक सामाग्री मिली थी । 

इतना ही नहीं यूपी में हिंसा की साजिश में पीएफआई का नाम सामने आने के बाद पुलिस ने उसके मुखपत्र के संपादक को गिरफ्तार किया है, जो शाहीन बाग के पीएफआई दफ्तर का सचिव भी था । पुलिस उसे रिमांड पर लेने की कोशिश कर रही है ताकि पूछताछ के बाद जांच को आगे बढ़ाया जा सके । 


पुलिस ने अपनी जांच में पीएफआई के साथ चंद्रशेखर की भीम आर्मी की मिलीभगत होने की बात कही है । पुलिस यूपी में दंगों की साजिश के लिए विदेशी फंडिंग के लिए हुई बैंक ट्रांजेक्शन की जांच कर चुकी है । जांच में सामने आया है कि पीएफआई ने भीम आर्मी को भी दंगे फैलाने के लिए फंडिंग की । 

इतना ही नहीं पश्चिमी यूपी के एक खनन माफिया के भी इस मामले में फंडिग के सुराग सामने आए हैं । इस माफिया का नाम चीनी मिल घोटाले में भी शामिल है । योगी सरकार का कहना है कि हाथरस में हिंसा होती तो पश्चिमी यूपी चपेट में आता । ये साजिशकर्ता पीड़िता को इंसाफ दिलाने की आड़ में एक बड़ी साजिश रच रहे थे , जिसमें पूरे यूपी में हिंसा फैलाने के साथ ही योगी सरकार को बदनाम करने की षड़यंत्र था । 

इस बीच पीएफआई के गिरफ्तार चारों आरोपियों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है और पीएफआई की तरफ से सफाई सामने आई है। 

Todays Beets: