Tuesday, October 4, 2022

Breaking News

   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||

कोविशील्ड वैक्सीन से महिला डॉक्टर की मौत , बाॉंबे HC ने सरकार - बिल गेट्स को भेजा नोटिस , 1000 करोड़ का मांगा गया मुआवजा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कोविशील्ड वैक्सीन से महिला डॉक्टर की मौत , बाॉंबे HC ने सरकार - बिल गेट्स को भेजा नोटिस , 1000 करोड़ का मांगा गया मुआवजा

मुंबई । कोरोना काल के दौरान लगाई गई कोविशील्ड वैक्सीन से एक महिला डॉक्टर की कथित मौत का मामला इन दिनों देश की अदालत में सुर्खियों का कारण बना हुआ है । पीड़ित परिवार की ओर से कोर्ट में दायर एक याचिका में केंद्र सरकार समेत अन्य लोगों पर झूठे दावे करने का आरोप लगाते हुए एक हजार करोड़ रुपये के मुआवजे की मांग की गई है । इस याचिका पर सुनवाई करते हुए अब बॉंबे हाईकोर्ट ने भारत सरकार समेत अन्य लोगों को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है । कोर्ट ने भारत सरकार के साथ ही महाराष्ट्र सरकार (Maharashtra Govt), केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय (MoHFW), पुणे का सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII), दिल्ली एम्स (Delhi AIIMS) निदेशक, डीजीसीआई प्रमुख (DGCI Chief) और माइक्रोसॉफ्ट के संस्थापक बिल गेट्स (Microsoft founder Bill Gates) समेत अन्य लोगों से जवाब मांगा गया है । कोर्ट में मामले की अगली सुनवाई 17 नवंबर को होगी । 

क्या है पीड़ित परिवार की याचिका में 

विदित हो कि याचिकाकर्ता दिलीप लुनावत ने केंद्र सरकार समेत महाराष्ट्र सरकार समेत मंत्रालय - विभागों और अन्य लोगों पर कोविशील्ड वैक्सीन के बारे में झूठे दावे कर लोगों को प्रेरित करने का आरोप लगाया है । उन्होंने आरोप लगाया कि कोविड वैक्सीन लेने के लिए चिकित्सकों को मजबूर किया गया । याचिकाकर्ता ने दावा किया है कि कोविशील्ड वैक्सीन लेने के बाद उसकी बेटी डॉक्टर स्नेहल लुनावत की मौत हो गई । 

वैक्सीन के 110 फीसदी सुरक्षित होने का मुद्दा उठाया


याचिकाकर्ता दिलीप लुनावत ने देश के औषधि महानियंत्रक वीजी सोमानी के एक इंटरव्यू का जिक्र अपनी याचिका में किया है । 4 जनवरी 2021 के एक टीवी इंटरव्यू का जिक्र करते हुए याचिकाकर्ता ने कहा कि भारत के औषधि महानियंत्रक वीजी सोमानी ने अपने इंटरव्यू में साफ कहा था कि भारत में लगने वाली ये वैक्सीन 110 फीसदी सुरक्षित हैं । सुरक्षा की जरा सी भी चिंता होने पर हम किसी भी चीज की मंजूरी नहीं देंगे । टीके 110 प्रतिशत सुरक्षित हैं । कुछ ऐसा ही  दिल्ली एम्स के निदेशक डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने भी कहा था । कहा गया था कि टीके पूरी तरह से सुरक्षित हैं , साथ ही लोगों से टीके लगवाने की अपील भी की गई थी । 

28 जनवरी 2021 को ली थी डॉक्टर स्नेहल ने वैक्सीन

अपनी याचिका में उन्होंने कहा कि मेरी बेटी ने सरकार और लोगों द्वारा किए गए झूठे दावों पर यकीन करते हुए 28 जनवरी 2021 को वैक्सीन की पहली डोज ली थी। 1 मार्च को कोविशील्ड के साइड इफेक्ड के कारण उनकी बेटी स्नेहल की मौत हो गई । याचिका में दावा किया गया है कि 2 अक्टूबर 2021 को केंद्र सरकार की एईएफआई समिति ने स्वीकार किया था कि शिकायतकर्ता की बेटी की मौत कोविशील्ड वैक्सीन के साइड इफेक्ट के कारण हुई । डॉक्टर स्नेहल लुनावत नासिक के धमनगांव स्थित एसएमबीटी डेंटल कॉलेज और अस्पताल में डॉक्टर और सीनियर लेक्चरर थीं ।

Todays Beets: