Friday, September 24, 2021

Breaking News

   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||   दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने कनॉट प्लेस पर भारत के पहले स्मॉग टावर का उद्घाटन किया     ||   गुजरात में शराबबंदी के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका मंजूर, 12 अक्टूबर को होगी सुनवाई     ||   सिंगापुर के स्वास्थ्य मंत्री ने चेताया, आर्थिक गतिविधियां खुलने के साथ ही बढ़ सकते हैं कोरोना के मामले     ||   पत्नी शालिनी के आरोपों पर बोले हनी सिंह- सभी आरोप गलत, कोर्ट में चल रहा केस     ||   रांचीः महिला हॉकी में झारखंड से शामिल हर खिलाड़ियों को मिलेंगे 50-50 लाख रुपयेः CM हेमंत सोरेन     ||

करनाल महापंचायत LIVE - हजारों किसानों ने किया मिनी सचिवाल का रुख , टिकैत बोले - हम जेल भरने को तैयार 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
करनाल महापंचायत LIVE - हजारों किसानों ने किया मिनी सचिवाल का रुख , टिकैत बोले - हम जेल भरने को तैयार 

करनाल । किसानों की करनाल में महापंचायत ( Karnal Kisan Mahapanchayat ) के दौरान किसान नेताओं और प्रशासन के बीच हुई बातचीत सफल नहीं होने पर अब हजारों की संख्या में 'मिनी सचिवालय' की तरफ कूच किया है । इसमें किसान नेता राकेश टिकैत और गुरनाम सिंह चढूनी भी मौजूद हैं । भारतीय किसान यूनियन (चढूनी) के चीफ गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा- करनाल प्रशासन और किसान नेताओं के बीच बातचीत विफल हो गई है । हम अलग रणनीति मंडी में तय करेंगे । इस दौरान राकेश टिकैत ने ट्वीट करते हुए कहा है कि करनाल में सरकार किसानों की बातें सुन नहीं रही है । या तो खट्टर सरकार मांगें माने या हमें गिरफ्तार करे । हम हरियाणा की जेलें भरने को भी तैयार है। 

विदित हो कि किसानों के आंदोलन के दौरान हुए लाठीचार्ज के विरोध में आज करनाल में किसानों ने एक महापंचायत का आह्वान किया था । इस दौरान हजारों किसान करनाल पहुंचे , जिसके चलते कल से ही इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई थीं, वहीं करनाल में धारा 144 लागू की गई थी । इस सबके बावजूद वहां महापंचायत हुई । इस दौरान करनाल प्रशासन से किसान नेताओं ने अपनी मांगों को लेकर बातचीत की । 

हालांकि बात सफल नहीं होने की सूरत में अब बड़ी संख्या में किसानों ने मिनी सचिवालय की ओर कूच किया है । इधर, किसानों के महामार्च को देखते हुए प्रशासन की तरफ से सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए हैं । 


करनाल स्थित नई मंडी में अलग-अलग जिलों से किसान जत्थे के साथ पहुंच रहे हैं । किसानों ने इस बात की घोषणा की है कि अनाज मंडी से होते हुए जिला सचिवालय की ओर रुख करेंगे । 

इससे इतर , महापंचायत को देखते हुए कुरूक्षेत्र, कैथल, जिंदल और पानीपत में भड़काऊ बयानों और अफवाहों को रोकने के प्रयासों के तहत मोबाइल इंटरनेट और एसएमएस सेवाओं को निलंबित कर दिया गया है । 

Todays Beets: