Friday, January 22, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

LIVE - तीन दिनों से चिल्ला-गाजीपुर बॉर्डर बंद , राहुल गांधी बोले - मिट्टी का कण-कण गूंज रहा है, सरकार को सुनना पड़ेगा 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - तीन दिनों से चिल्ला-गाजीपुर बॉर्डर बंद , राहुल गांधी बोले - मिट्टी का कण-कण गूंज रहा है, सरकार को सुनना पड़ेगा 

नई दिल्ली । किसानों का कृषि बिल को लेकर जारी आंदोलन एक महीने बाद भी बदस्तूर जारी है । इस आंदोलन को लेकर राजनीतिक पार्टियां अपनी रोटी सेकती नजर आ रही हैं । इसी क्रम में एक बार फिर से कांग्रेसी नेता राहुल गांधी ने किसानों के इस आंदोलन का समर्थन करते हुए एक वीडियो ट्वीट किया है । वीडियो के कैप्शन में लिखा है- मिट्टी का कण-कण गूंज रहा है, सरकार को सुनना पड़ेगा । इसी क्रम में किसानों ने अपने प्रदर्शन को उग्र कर दिया है । इसके चलते दिल्ली-एनसीआर का यातायात पिछले एक महीने से बुरी तरह प्रभावित है। चिल्ला और गाजीपुर बॉर्डर पिछले तीन दिनों से बंद है, जिसके कारण उत्तर प्रदेश से दिल्ली जाने वालों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है।

बता दें कि किसानों के इस कृषि बिल के विरोध में जारी धरना प्रदर्शन समेत भूख हड़ताल को लेकर दिल्ली -एनसीआर के बॉर्डर पर हंगामा जारी है । कृषि बिलों को वापस लेने की मांग को लेकर दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर जारी किसानों का प्रदर्शन शनिवार को 31वें दिन पहुंच गया। पिछले एक महीने से पंजाब, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश समेत कई राज्यों के किसान दिल्ली के तीन ओर से घेरे बैठे हैं । ये लोग कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग पर अड़े हुए हैं।  

इस सबके बीच शनिवार को भी प्रदर्शनकारी किसान हरियाणा के सभी टोल प्लाज फ्री कराएंगे। यह सिलसिला रविवार को भी जारी रहेगा। इसी क्रम में दिल्ली से सटे हरियाणा के सिंघु, ढांसा और टीकरी बार्डर पर प्रदर्शन जारी है। यहां पर हजारों की संख्या में किसान तंबू गाड़कर स्थायी प्रदर्शन की तैयारी में जुट गए हैं। 


बहरहाल , सूत्रों का कहना है कि सरकार किसान संगठनों के साथ अगले दो से तीन दिनों के अंदर बातचीत की टेबल पर बैठ सकती है ।  प्रदर्शन कर रहे एक किसान नेता ने अपना नाम गोपनीय रखने की शर्त पर कहा कि MSP को कानूनी गारंटी देने की उनकी मांग बनी रहेगी । उधर, सरकार के पत्र और प्रधानमंत्री के भाषण पर कुंडली, सिंघु बॉर्डर पर 26 दिसबंर को दोपहर 2 बजे सयुंक्त किसान मोर्चा की मीटिंग आयोजित की जाएगी ।

खबर है कि कुछ किसान संगठनों ने संकेत दिया है कि वे सरकार के साथ एक बार फिर से वार्ता शुरू कर सकते हैं, ताकि इस गतिरोध का कुछ समाधान निकाला जा सके । किसान संगठनों ने कहा है कि वे शनिवार को एक बैठक करेंगे । इसमें केंद्र द्वारा बातचीत की पेशकश का क्या जवाब दिया इस पर एक औपचारिक फैसला लिया जा सकता है । 

 

Todays Beets: