Tuesday, October 4, 2022

Breaking News

   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||

मैंने कांग्रेस को 42 साल दिए हैं , पार्टी का सदस्य हूं कोई किरायेदार नहीं - मनीष तिवारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
मैंने कांग्रेस को 42 साल दिए हैं , पार्टी का सदस्य हूं कोई किरायेदार नहीं - मनीष तिवारी

नई दिल्ली । कांग्रेस के भीतर जारी घमासान के बीच जहां एक दिन पहले पार्टी के दिग्गज नेता रहे गुलाम नबी आजाद ने सभी पदों के साथ पार्टी की सदस्यता से भी इस्तीफा दे दिया , वहीं अब पार्टी के कई अन्य नेताओं के इस्तीफे दिए जाने की आशंका जताई जा रही है। इस सबसे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं में ही शुमार मनीष तिवारी ने भी पार्टी के कुछ नेताओं पर तंज कसते हुए अपनी भावनाएं व्यक्त की हैं । मनीष तिवारी ने कहा कि मैं पार्टी का सदस्य हूं न कि कोई किरायेदार । मैंने पार्टी को अपने 42 साल दिए हैं । मुझे अपना काम और अपनी मंशा को साबित करने की कोई जरूरत नहीं है , न ही किसी के सर्टिफिकेट की जरूरत है । 

धक्का मार बाहर निकालने की कोशिश करेंगे 

विदित हो कि कांग्रेस सांसद मनीष तिवारी उन नेताओं में से रहे हैं जिन्होंने कुछ साल पहले सोनिया गांधी के खिलाफ मोर्चा खोला था । जी23 में शामिल मनीष तिवारी ने कहा, 'हमें किसी से सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है. मैंने इस पार्टी को 42 साल दिए हैं । मैं यह पहले भी कह चुका हूं, हम इस संस्था (कांग्रेस) के किरायेदार नहीं हैं, हिस्सेदार हैं । अब अगर आप हमें धक्कामार कर बाहर निकालने की कोशिश करेंगे तो यह दूसरी बात है, और यह देखा जाएगा । उन्होंने कहा, 'दो साल पहले हम 23 लोगों ने कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखकर बताया था कि कांग्रेस की परिस्थिति चिंताजनक है जिसपर विचार करने की जरूरत है ।  कांग्रेस की बगिया को बहुत लोगों, परिवारों ने अपने खून से संजोया है. अगर किसी को कुछ मिला वो खैरात में नहीं मिला है.'

'कांग्रेस को आत्मनिरीक्षण की जरूरत'


मनीष तिवारी ने आगे कहा कि ऐसा लगता है कि 1885 से मौजूद भारत और कांग्रेस के बीच समन्वय में दरार आ गई है. आत्मनिरीक्षण की जरूरत थी. मुझे लगता है कि 20 दिसंबर 2020 को सोनिया गांधी के आवास पर हुई बैठक में सहमति बन गई होती तो यह स्थिति नहीं आती । गुलाम नबी आजाद के इस्तीफे पर बात करते हुए कांग्रेस सांसद ने कहा, आजाद के त्याग पत्र की अच्छाई-बुराई में नहीं जाना चाहता । उन्होंने अपने तरीके से समझाने की पूरी कोशिश की । कांग्रेस नेताओं के चपरासी जब पार्टी के बारे में ज्ञान देते हैं तो यह हंसी का पात्र होता है । 

ऐसे लोग जज्बाती और खुद्दार होते हैं

वह बोले - उत्तर भारत के लोग जो हिमालय की चोटी की ओर रहते हैं, यह जज्बाती, खुददार लोग होते हैं । पिछले 1000 साल से इनकी तासीर आक्रमणकारियों के खिलाफ लड़ने की रही है । किसी को इन लोगों के धैर्य की परीक्षा नहीं लेनी चाहिए । 

 

Todays Beets: