Friday, February 26, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

म्यांमार में तख्तापलट , कमांडर- इन- चीफ ने कमान संभालते हुए देश में इमरजेंसी लागू की , राष्ट्रपति - आंग सान सूकी हिरासत में

अंग्वाल न्यूज डेस्क
म्यांमार में तख्तापलट , कमांडर- इन- चीफ ने कमान संभालते हुए देश में इमरजेंसी लागू की , राष्ट्रपति - आंग सान सूकी हिरासत में

नई दिल्ली । भारत का पड़ोसी देश म्यांमार एक बार फिर से दुनिया के लिए खबरों के केंद्र में आ गया है । असल में म्यांमार में तख्तापलट हो गया है , जिसके बाद वहां की सेना ने वास्‍तविक नेता आंग सान सू की और राष्ट्रपति विन म्यिंट को हिरासत में ले लिया और देश में एक साल के लिए इमरजेंसी लागू कर दी गई है । सेना ने इसका ऐलान करते हुए साफ कर दिया है कि अब देश की कमान सेना के कमांडर इन चीफ मिन आंग ह्वाइंग के पास आ गई है । सेना ने अपनी इस कार्रवाई को लेकर जारी किए एक बयान में कहा है कि चुनावों में हुई धोखाधड़ी के जवाब में सेना ने इस कार्रवाई को अंजाम दिया है । सेना के इस तख्तापलट का कोई विरोध न कर सके , इसके लिए पूरे देश में कई जगहों पर सेना की तैनाती की गई है । 

बता दें कि यह पहला मौका नहीं है जब म्यांमार में सेना के हाथों देश की कमान रही हो । इससे पहले 1962 से लेकर 2011 तक देश में सैन्य शासन रहा है । 2010 के चुनावों के बाद 2011 में वहां एक लोकतांत्रिक सरकार बनी थी , जिसके बाद वहां अन्य देशों की तरह की एक सरकारी तंत्र स्थापित हुआ । हालांकि इस दौरान भी सत्ता की चाबी सेना के पास ही रही । 

बहरहाल , एक बार फिर से हाल में हुए चुनावों में धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए सेना ने तख्तापलट कर दिया है और देश में एक साल के लिए इमरजेंसी लागू कर दी है । इसके साथ ही वास्‍तविक नेता आंग सान सू की और राष्ट्रपति विन म्यिंट को हिरासत में ले लिया । 


म्यांमार की सेना की इस कार्रवाई पर अमेरिका समेत दुनिया के कई देशों ने अपनी नाराजगी जाहिर की है । व्हाइट हाउस की प्रवक्ता जेन साकी ने कहा, 'बर्मा की सेना ने स्टेट काउंसलर आंग सान सू की और अन्य नागरिक अधिकारियों की गिरफ्तारी सहित देश के लोकतांत्रिक संक्रमण को कम करने के लिए कदम उठाए हैं । 

इससे इतर , म्यांमार सेना को चेतावनी देते हुए अमेरिका ने कहा, 'संयुक्त राज्य अमेरिका ने हाल के चुनावों के परिणामों को बदलने या म्यांमार के लोकतांत्रिक व्यवस्था को किसी भी तरह से प्रभावित करने का विरोध किया है ।  

Todays Beets: