Thursday, October 22, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

हाथरस कांड - परिवार संग फर्जी रिश्तेदार बनकर रही एक संदिग्ध नक्सली महिला फरार! , परिजनों को भड़काने के आरोप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हाथरस कांड - परिवार संग फर्जी रिश्तेदार बनकर रही एक संदिग्ध नक्सली महिला फरार! , परिजनों को भड़काने के आरोप

हाथरस । यूपी के हाथरस में कथित गैंगरेप कांड को लेकर मचा हो हल्ला पिछले कुछ दिनों से शांत हो गया है । विपक्षी दलों का हंगामा उन खुलासों के बाद हल्का पड़ा है , जिसमें साफ हुआ है कि हाथरस कांड की आड़ में वहां और पूरे यूपी में दंगों की साजिश रची गई थी । इस मामले में विदेशी फंडिंग का खुलासा भी प्रवर्तन निदेशालय ने किया है । इस सबके बाद एक और बड़ा खुलासा इस मामले को लेकर हुआ है । सामने आया है कि एक महिला जो पीड़िता की फर्जी रिश्तेदार बनकर उनके घर में रह रही थी , असल में वह पीड़ित परिवार को भड़काने और पुलिस -एसआईटी को क्या बयान देना है , इस बारे में बताती थी । ऐसी भी खबरें हैं कि इस महिला का नक्सली कनेक्शन भी है । पुलिस अब इस महिला की तलाश कर रही है । 

राजस्थान में जिंदा जलाए गए पंडित के अंतिम संस्कार से परिजनों का इनकार , राज्यपाल ने सीएम गहलोत से की बात

हाथरस कांड में शनिवार को नक्सल कनेक्शन (Naxal Connection) का मामला भी सामने आया है । एसआईटी की टीम मध्य प्रदेश के जबलपुर की रहने वाली महिला की तलाश में जुटी है । ऐसी खबरें हैं कि महिला खुद को पीड़ित परिवार की रिश्तेदार बता रही थी और पुलिस और एसआईटी को लगातार बयान दे रही है । 


वह खुद को पीड़ित की भाभी बता रही थी। 16 सितंबर से लेकर 22 सितंबर तक पीड़िता के घर में रहकर नक्सली महिला बड़ी साजिश रच रही थी । पुलिस का दावा है कि वह महिला पीड़ित परिवार को बरगला रही थी । तथाकथित रिश्तेदार डॉ. राजकुमारी पीड़ित परिवारों को बरगलाते हुए देखी गई है । केवल दलित होने के नाते परिवार के लोगों को भरोसे में लेकर यह महिला पिछले कई दिनों से पीड़ित परिवार के साथ गांव में रह रही थी । महिला खुद को जबलपुर मेडिकल कॉलेज में प्रोफेसर बता रही थी । 

देवरिया में तैनात यातायात पुलिस के सब इंस्पेक्टर को सलाम करें , मासूम को बचाने के लिए नाले में लगाई छलांग

पुलिस के अनुसार , वह लगातार रिश्तेदार को लगातार बता रही थी कि मीडिया में क्या बयान देना है । वह लगातार पीड़ित परिजनों को लगातार गाइड कर रही थी । हाल में महिला को जब इस बात का शक हुआ कि उसपर निगरानी रखी जा रही है तो वह गांव से चुपचाप खिसक गई है । इस महिला की कॉल डिटेल में कई चौंकाने वाले खुलासे सामने आए हैं , पुलिस इस महिला को अब तलाश कर रही है । 

Todays Beets: