Wednesday, July 28, 2021

Breaking News

   बिहार: पटना में अवैध टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़, 2 गिरफ्तार     ||   जम्मू-कश्मीर: आतंकवादियों ने पुलिस कांस्टेबल की पत्नी और बेटी पर गोलियां चलाईं, दोनों जख्मी     ||   पेगासस मामला: दुनिया के 14 बड़े नेताओं की भी की गई जासूसी, PM इमरान समेत कई अन्य का लिस्ट में नाम     ||   जाकिर हुसैन मेमोरियल ट्रस्ट केस: कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद की पत्नी के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी     ||   पेगासस मामला: शिवसेना ने की जेपीसी जांच की मांग, कहा- यह हमला आपातकाल से भी बदतर     ||   महाराष्ट्र सरकार ने भी HC से कही थी ऑक्सीजन की कमी से मौत ना होने की बात- अमित मालवीय     ||   नवजोत सिंह सिद्धू के आवास पर पहुंचे 62 MLA, पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष बोले- बदलाव की बयार     ||   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||

SC पहुंचा टूलकिट मामला , NIA से जांच की मांग , संबित बोले - सौम्या वर्मा हैं इसकी लेखिका

अंग्वाल न्यूज डेस्क
SC पहुंचा टूलकिट मामला , NIA से जांच की मांग , संबित बोले - सौम्या वर्मा हैं इसकी लेखिका

नई दिल्ली । केंद्र की मोदी सरकार के खिलाफ एक टूलकिट बनाकर लोगों को सरकार के खिलाफ भड़काने और दुनिया में भारत की छवि बिगाड़ने संबंधी मामले में अब विवाद बढ़ता जा रहा है । भाजपा ने कांग्रेस पर इस टूलकिट को तैयार करने का आरोप लगाया है । वहीं कांग्रेस ने भाजपा नेताओं के खिलाफ फर्जी खबर साझा करने और बनाने को लेकर मामला दर्ज कराया है। इसके बाद दोनों दलों के बीच लगातार जुबानी जंग तेज हो गई है । बहरहाल , अब यह मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है और इस टूलकिट के खिलाफ याचिका दाखिल की गई है।

बता दें कि टूलकिट मामले में एक मामला दर्ज होने के बाद अब सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल की गई है , जिसमें सरकार के खिलाफ लोगों को भड़काने और दुनिया में भारत की छवि बिगाड़ने का बताया गया है। इस याचिका को लेकर अधिवक्ता शशांक शेखर झा ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करते हुए इस मामले में अंतरराष्ट्रीय साजिश का पता लगाने के लिए NIA से जांच कराने की मांग की है। इसके साथ ही याचिका में कहा गया है कि अगर दोष साबित हो तो कांग्रेस की मान्यता रद्द की जाए।

भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने इस मामले के गर्माने के बाद बुधवार को ट्वीट के जरिए एक नई जानकारी साझा की । उन्होंने दावा किया है कि कथित टूलकिट की लेखिका सौम्या वर्मा हैं। पात्रा ने ट्वीट के साथ चार स्क्रीनशॉट भी साझा किए। स्क्रीनशॉट में से एक सौम्य वर्मा के लिंक्डइन प्रोफाइल का है, जिसके अनुसार वह प्रोफेसर एमवी राजीव गौड़ा के कार्यालय में काम करती हैं। पात्रा द्वारा साझा की गई सौम्या वर्मा की प्रोफ़ाइल के अनुसार, वह अप्रैल 2017 से एआईसीसी रिसर्च विभाग में राजीव गौड़ा के कार्यालय में नीति और राजनीतिक अनुसंधान सलाहकार के रूप में काम कर रही हैं।


इसी क्रम में कांग्रेस के रिसर्च प्रकोष्ठ के प्रमुख राजीव गौड़ा ने कल टूलकिट को "नकली" कहा था। गौड़ा ने कल ट्वीट करते हुए कहा, "भाजपा कोविड-19 कुप्रबंधन पर एक नकली टूलकिट का प्रचार कर रही है और इसका श्रेय एआईसीसी रिसर्च विभाग को दे रही है। हम (भाजपा प्रमुख) जेपी नड्डा और संबित पात्रा के खिलाफ जालसाजी के लिए प्राथमिकी दर्ज कर रहे हैं। जब हमारा देश कोविड द्वारा तबाह हो रहा है, तो राहत देने के बजाय भाजपा बेशर्मी से जालसाजी कर रही है।''

बता दें कि कांग्रेस ने गत मंगलवार को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी, बीएल संतोष और संबित पात्रा के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी और उन पर "फर्जी खबर साझा करने और बनाने" के लिए मामला दर्ज करने की मांग की थी।एक पत्रकार वार्ता में कांग्रेस के रिसर्च प्रकोष्ठ के प्रमुख राजीव गौड़ा और कांग्रेस प्रवक्ता पवन खेड़ा ने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान लोगों की सहायता करने के बजाय भाजपा निचले स्तर की राजनीति में गिर रही है। उन्होंने आगे दावा किया कि यह महामारी से निपटने में सरकार की विफलताओं से ध्यान हटाने के लिए किया जा रहा है।

Todays Beets: