Saturday, April 24, 2021

Breaking News

   कोरोनाः यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को लगाई गई वैक्सीन     ||   महाराष्ट्रः वसूली केस की होगी सीबीआई जांच, फडणवीस बोले- अनिल देशमुख दें इस्तीफा     ||   ड्रग्स केस में गिरफ्तार अभिनेता एजाज खान कोरोना पॉजिटिव, NCB टीम का भी होगा टेस्ट     ||   मथुराः लेफ्टिनेंट जनरल मनोज कुमार कटियार बने वन स्ट्राइक कोर के कमांडर     ||   कर्नाटकः भ्रष्टाचार के मामले की जांच पर स्टे, सीएम येदियुरप्पा को SC ने दी राहत     ||   छत्तीसगढ़ः नक्सल के खिलाफ लड़ाई अब निर्णायक चरण में, हमारी जीत निश्चित है- अमित शाह     ||   यूपीः पंचायत चुनाव में 5 से अधिक लोगों के साथ प्रचार करने पर रोक, कोरोना के कारण फैसला     ||   स्विटजरलैंड में चेहरा ढकने पर लगाई गई पाबंदी , मुस्लिम संगठनों ने जताई आपत्ति     ||   सिंघु बॉर्डर के नजदीक अज्ञात लोगों ने रविवार रात की हवाई फायरिंग, पुलिस कर रही छानबीन     ||   जम्मू कश्मीर - प्रोफेसर अब्दुल बरी नाइक को पुलिस ने किया गिरफ्तार, युवाओं को बरगलाने का आरोप     ||

जम्मू में रोहिंग्या मुसलमानों को बसाने के लिए पाकिस्तान - यूएई कर रहे फंडिंग , वेरिफिकेशन में कई दबोचे गए

अंग्वाल न्यूज डेस्क
जम्मू में रोहिंग्या मुसलमानों को बसाने के लिए पाकिस्तान - यूएई कर रहे फंडिंग , वेरिफिकेशन में कई दबोचे गए

श्रीनगर । देश में रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर एक बार फिर से खबरें आ रही हैं । असल में इन दिनों जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में अवैध तरीके से रहने वाले रोहिंग्या (Rohingya) मुसलमानों की जांच पड़ताल चल रही है । इस पूरे घटनाक्रम में सुरक्षा एजेंसियों को कुछ चौंकाने वाले सुराग हाथ लगे हैं । सामने आया है कि इन लोगों को जम्मू में बसाने के लिए पाकिस्तान और सऊदी अरब (UAE) की और से एक NGO को फंडिंग की जाती रही है । 

सामने आए सरकारी आंकड़ों के अनुसार , रोहिंग्या मुसलमानों के साथ ही बांग्लादेशी सहित 13,700 से ज्यादा विदेशी नागरिक जम्मू और साम्बा (Samba) जिलों में बसे हुए हैं । इसकी शुरुआत 1996 में हुई, जब बड़ी संख्या में रोहिंग्या म्यांमार से आकर जम्मू के किरयानी तालाब, नरवाल बाला, बड़ी ब्राह्मणा की तेली बस्ती, साम्बा, कठुआ में बस गए ।

जानकार बताते हैं कि फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) सरकार के दौरान बड़ी संख्या में ये लोग जम्मू कश्मीर में आए । वर्ष 2008 से 2016 के बीच रोहिंग्या की उनकी जनसंख्या में 6,000 से ज्यादा की वृद्धि हुई है । रोहिंग्या, म्यांमार (Myanmar) के बांग्ला बोलने वाले अल्पसंख्यक मुसलमान हैं । 

बहरहाल , इस दौरान सामने आया है कि इन रोहिंग्या मुसलमानों को जम्मू कश्मीर में बसाने के लिए पाकिस्तान और यूएई की ओर से एक एनजीओ को फंडिंग की गई । रोहिंग्यों के लिए विदेशी फंडिंग से वेलफेयर देख रही NGO ने मदरसे और वेलफेयर सेंटर भी बना रखे हैं । हालांकि अभी तक NGO के नाम का खुलासा नहीं हुआ है । 


इससे इतर , इन दिनों जम्मू कश्मीर में रहने वाले रोहिंग्या मुसलमानों की वेरिफिकेशन हो रही है । इस जांच पड़ताल से बचकर भागने वालों की पुलिस ने तलाश शुरू कर दी है । जम्मू कश्मीर पुलिस ने जम्मू, साम्बा और कठुआ के सरपंचों से मदद मांगी है और रोहिंग्या की पहचान कर तुरंत पुलिस को बताने की अपील की है । 

पुलिस ने बीते शनिवार ऐसे ही 168 रोहिंग्या को पकड़कर हीरानगर जेल में बनाए गए होल्डिंग सेंटर में भेजा है । इनके पास देश में रहने या कहीं आने-जाने के वैध दस्तावेज नहीं थे । इसके अलावा साम्बा जिले के बड़ी ब्राह्मणा की तेली बस्ती से 24 रोहिंग्या को पकड़ा गया है । इन सबके तहत कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी गई है । 

सरकारी अफसरों का कहना है कि जम्मू कश्मीर में कड़ी सुरक्षा के बीच MAM स्टेडियम में म्यांमार से आए रोहिंग्या मुसलमानों का वेरिफिकेशन किया जा रहा है । इसके तहत रोहिंग्या समुदाय के लोगों की बायोमिट्रिक जानकारी, रहने का स्थान आदि सहित अन्य सूचनाएं जुटाई गईं हैं। 

Todays Beets: