Sunday, January 17, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा , आम बजट 1 फरवरी को होगा पेश , बजट सत्र दो हिस्सों में होगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा , आम बजट 1 फरवरी को होगा पेश , बजट सत्र दो हिस्सों में होगा

नई दिल्ली । कोरोना काल के बाद इस बार का संसद का बजट सत्र 29 जनवरी से शुरू होगा । संसदीय मामलों की मंत्रिमंडलीय समिति (CCPA) ने बजट सत्र इस तारीख पर करने की सिफारिश की है। इस बार बजट सत्र दो हिस्सों में होगा । इसमें पहला भाग 29 जनवरी को शुरू होकर 15 फरवरी तक चलेगा तो दूसरा 8 मार्च से 8 अप्रैल तक चलेगा । इस दौरान कोरोना वायरस से जुड़े सभी प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा । हालाकि संसद में आम बजट 1 फरवरी को ही पेश किया जाएगा , जबकि 29 जनवरी को राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद संसद के दोनों सदनों को संबोधित करेंगे । 

असल में इस साल कोरोना काल के चलते शीतकालनी सत्र नहीं बुलाया गया है । हालांकि सरकार के इस फैसले का विपक्ष ने जमकर विरोध किया और इसे दमनकारी नीति का हिस्सा कहा । विपक्ष के भारी विरोध के बावजूद संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी ने लोकसभा में कांग्रेस के नेता अधीररंजन चौधरी को पत्र लिखकर बताया था कि सभी दलों के नेताओं से चर्चा के बाद आम सहमति बनी थी कि कोरोना के चलते सत्र नहीं बुलाया जाना चाहिए । 


इससे पहले कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी का कहना था कि संसद का सत्र बुलाया जाना चाहिए, ताकि किसानों से जुड़े मुद्दों पर चर्चा हो सके । इसी क्रम में महाराष्ट्र के पूर्व सीएम पृथ्वीराज चव्हाण ने भी शीतकालीन सत्र न बुलाए जाने पर केंद्र के खिलाफ हल्ला बोला था । उन्होंने कहा था कि अगर विधानसभा चुनाव हो सकते हैं, अगर पॉलिटिकल रैलियां हो सकती हैं , तो विंटर सेशन भी बुलाना चाहिए था. यह तानाशाही है और कुछ नहीं।'

 

Todays Beets: