Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

बाली में जी20 शिखर सम्मेलन की शुरुआत , पीएम मोदी बोले - UN दुनिया के संकट दूर करने में असफल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बाली में जी20 शिखर सम्मेलन की शुरुआत , पीएम मोदी बोले - UN दुनिया के संकट दूर करने में असफल

नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को इंडोनेशिया के बाली में शुरू हुए जी20 शिखर सम्मेलन में शिरकत की । सम्मेलन में भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे उन्होंने अपने संबोधन में विशेष रूप से रूस और यूक्रेन के बीच जारी युद्ध पर अपने विचार रखे । इस दौरान उन्होंने संयुक्त राष्ट्र की कार्रशैली और भूमिका पर भी सवाल उठाए । उन्होंने कहा कि मैंने बार-बार कहा है कि हमें यूक्रेन में युद्धविराम और कूटनीति के रास्ते पर लौटने का रास्ता खोजना होगा । लेकिन इस दौरान संयुक्त राष्ट्र भी दुनिया के संकटों को दूर करने में असफल साबित हुई है । वह बोले - पिछली शताब्दी में द्वितीय विश्व युद्ध ने दुनिया में कहर बरपाया । उसके बाद शांति का मार्ग अपनाने का प्रयास किया गया. अब हमारी बारी है । कोविड के बाद के समय के लिए एक नई विश्व व्यवस्था बनाने का दायित्व हमारे कंधों पर है । 

खाद की कमी कल का खाद्य संकट

इस दौरान पीएम मोदी बोले - आज की खाद की कमी कल का खाद्य संकट है, जिसका समाधान दुनिया के पास नहीं होगा । हमें खाद और खाद्यान्न दोनों की आपूर्ति श्रृंखला को स्थिर और सुनिश्चित बनाए रखने के लिए आपसी समझौता करना चाहिए । प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में ऊर्जा सुरक्षा का भी जिक्र किया ।  


भारत की ऊर्जा-सुरक्षा भी महत्वपूर्ण वह बोले वैश्विक विकास के लिए भारत की ऊर्जा-सुरक्षा भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि यह दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था है । ऊर्जा की आपूर्ति पर किसी भी प्रतिबंध को बढ़ावा नहीं देना चाहिए और ऊर्जा बाजार में स्थिरता सुनिश्चित की जानी चाहिए. भारत स्वच्छ ऊर्जा और पर्यावरण के लिए प्रतिबद्ध है । उन्होंने कहा - 2030 तक हमारी आधी बिजली अक्षय स्रोतों से पैदा होगी । समावेशी ऊर्जा संक्रमण के लिए विकासशील देशों को समयबद्ध और किफायती वित्त और प्रौद्योगिकी की सतत आपूर्ति आवश्यक है । 

दिग्गजों से हुई मुलाकात

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जी-20 शिखर सम्मेलन में अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन और फ्रांस के नेता इमैनुएल मैक्रों से भी मुलाकात की ।  शिखर सम्मेलन की शुरुआत करते हुए इंडोनेशियाई राष्ट्रपति जोको विडोडो ने विश्व नेताओं से संयुक्त राष्ट्र चार्टर का पालन करने के लिए कहा और उग्र रूस-यूक्रेन संघर्ष के संदर्भ में "युद्ध" को समाप्त करने का आह्वान किया । 

Todays Beets: