Monday, March 1, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

PM MODI LIVE - देश में आतंक फैलाने वालों में पढ़े लिखे लोग भी शामिल 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
PM MODI LIVE - देश में आतंक फैलाने वालों में पढ़े लिखे लोग भी शामिल 

नई दिल्ली । पीएम मोदी ने शुक्रवार को बंगाल की विश्वभारती यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह में हिस्सा लिया । वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए इस कार्यक्रम का हिस्सा बनने वाले पीएम मोदी ने इल दौरान कहा कि भारत जो है, जो मानवता, जो आत्मीयता, जो विश्व कल्याण की भावना हमारे रक्त के कण-कण में है। उसका एहसास बाकी देशों को कराने के लिए विश्व भारती को देश की शिक्षा संस्थाओं का नेतृत्व करना चाहिए। बंगाल ने अतीत में भारत के समृद्ध ज्ञान-विज्ञान को आगे बढ़ाने में देश को नेतृत्व दिया। उन्होंने कहा कि बंगाल, एक भारत, श्रेष्ठ भारत की प्रेरणा स्थली भी रहा है और कर्मस्थली भी रहा है। इस दौरान उन्होंने कहा कि दुनिया भर में जो लोग आंतक फैला रहे हैं , उनमें कुछ उच्च शिक्षा वाले लोग भी शामिल हैं । उन्होंने कहा कि हमें यह सोचना होगा कि हम समस्या बनना चाहते हैं या समाधान।

पीएम मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि मेरा आग्रह है, अगले 25 वर्षों के लिए विश्व भारती के विद्यार्थी मिलकर एक विजन डॉक्यूमेंट बनाएं। वर्ष 2047 में, जब भारत अपनी आजादी के 100 वर्ष का समारोह बनाएगा, तब तक विश्व भारती के 25 सबसे बड़े लक्ष्य क्या होंगे, ये इस विजन डॉक्यूमेंट में रखे जा सकते हैं।

वह बोले- हम इस वर्ष अपनी आजादी के 75वें वर्ष में प्रवेश कर रहे हैं।उन्होंने कहा कि विश्व भारती के प्रत्येक विद्यार्थी की तरफ से देश को सबसे बड़ा उपहार होगा कि भारत की छवि को और निखारने के लिए आप ज्यादा से ज्यादा लोगों को जागरूक करें।

उन्होंने कहा - भारत की आत्मनिर्भरता, देश की बेटियों के आत्मविश्वास के बिना संभव नहीं है। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में पहली बार Gender Inclusion Fund की भी व्यवस्था की गई है। बंगाल ने अतीत में भारत के समृद्ध ज्ञान-विज्ञान को आगे बढ़ाने में देश को नेतृत्व दिया। बंगाल, एक भारत, श्रेष्ठ भारत की प्रेरणा स्थली भी रहा है और कर्मस्थली भी रहा है।

पीएम ने अपने संबोधन में आगे कहा - हाल ही में सरकार ने देश और दुनिया के लाखों Journals की फ्री एक्सेस अपने स्कॉलर्स को देने का फैसला किया है। इस साल बजट में भी रिसर्च के लिए नेशनल रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से आने वाले 5 साल में 50 हज़ार करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव रखा है।

पीएम ने कहा - गुरुदेव ने विश्वभारती में जो व्यवस्थाएं विकसित कीं, जो पद्धतियां विकसित कीं, वो भारत की शिक्षा व्यवस्था को परतंत्रता की बेड़ियों से मुक्त करने, उन्हें आधुनिक बनाने का एक माध्यम थीं।

भारत पर ब्रिटिश एजुकेशन सिस्टम थोपे जाने से पहले, थॉमस मुनरो ने भारतीय शिक्षा पद्धति और भारतीय शिक्षा व्यवस्था की ताकत देखी थी। उन्होंने देखा था कि हमारी शिक्षा व्यवस्था कितनी वाइब्रेंट है । इसी पुस्तक में विलियम एडम का भी जिक्र है जिन्होंने ये पाया था कि 1830 में बंगाल और बिहार में एक लाख से ज्यादा Village Schools थे। आज भारत में जो नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति बनी है, वो भी पुरानी बेड़ियों को तोड़ने के साथ ही, विद्यार्थियों को अपना सामर्थ्य दिखाने की पूरी आजादी देती। ये शिक्षा नीति आपको अलग-अलग विषयों को पढ़ने की आजादी देती है। ये शिक्षा नीति, आपको अपनी भाषा में पढ़ने का विकल्प देती है।

उनके अनुसार , ये शिक्षा नीति entrepreneurship, self employment को भी बढ़ावा देती है। ये शिक्षा नीति Research को, Innovation को बढ़ावा देती है। आत्मनिर्भर भारत के निर्माण में ये शिक्षा नीति भी एक अहम पड़ाव है।

उन्होंने कहा - हाल ही में सरकार ने देश और दुनिया के लाखों Journals की फ्री एक्सेस अपने Scholars को देने का फैसला किया है। इस साल बजट में भी रिसर्च के लिए नेशनल रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से आने वाले 5 साल में 50 हज़ार करोड़ रुपए खर्च करने का प्रस्ताव रखा है।

वह बोले -  विश्व भारती तो अपने आप में ज्ञान का वो उन्मुक्त समंदर है, जिसकी नींव ही अनुभव आधारित शिक्षा के लिए रखी गयी थी। ज्ञान की Creativity की कोई सीमा नहीं होती है, इसी सोच के साथ गुरुदेव ने इस महान विश्वविद्यालय की स्थापना की थी। उन्होंने कहा कि सफलता और असफलता हमारा वर्तमान और भविष्य तय नहीं करती। हो सकता है आपको किसी फैसले के बाद जैसा सोचा था वैसा परिणाम न मिले, लेकिन आपको फैसला लेने में डरना नहीं चाहिए। 

Todays Beets: