Wednesday, October 21, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

LIVE - राहुल गांधी 72 घंटों में सशर्त कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने को तैयार, कहा- वक्त लिजिए और गैर गांधी अध्यक्ष चुनिए

अंग्वाल संवाददाता
LIVE - राहुल गांधी 72 घंटों में सशर्त कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने को तैयार, कहा- वक्त लिजिए और गैर गांधी अध्यक्ष चुनिए

नई दिल्ली । लोकसभा चुनावों में मिली हार के बाद कांग्रेस की वर्किंग कमेटी में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने इस्तीफे की पेशकश की । इतना ही नहीं इस दौरान राहुल गांधी ने कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं पर अपने बच्चों को टिकट दिलवाने के लिए ज्यादा सक्रिय होने और चुनावों पर कम ध्यान देने की बातें तक कह डालीं। इस सब में उन्होंने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का भी नाम लिया था । इस सब के बीच खबर है कि अपने इस्तीफे की पेशकश के 72 घंटे के भीतर ही राहुल गांधी के तेवर नरम पड़ गए हैं। सूत्रों का कहना है कि पार्टी नेताओं के काफी मानमनोव्वल के बाद राहुल सशर्त पार्टी अध्यक्ष बने रहने पर मानते नजर आ रहे हैं। पार्टी नेताओं ने राहुल से कहा है कि पार्टी को उनका विकल्प नहीं मिल रहा है । वह अपनी मर्जी से पार्टी को चलाएं । वहीं मंगलवार सुबह अशोक गहलोत एक बार फिर राहुल गांधी से मिलने पहुंचे, इससे पहले सचिन पायलट भी राहुल गांधी से मिले ।

MODI वाराणसी  - इस बार के चुनावों में अंकगणित ने केमिस्ट्री को हराया , यूपी ने लोकतंत्र की नींव मजबूत की

बता दें कि लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बदस्तूर जारी रहने के क्रम से आहत होकर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने वर्किंग कमेटी की बैठक में  अपने इस्तीफे की पेशकश कर डाली । हालांकि वर्किंग कमेटी ने उनके इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया है , लेकिन राहुल गांधी ने अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल से मिलकर अपना विकल्प खोजने के लिए कहा था । लेकिन अब कहा जा रहा है कि राहुल के तेवर नरम पड़ गए हैं।  खबर है कि राहुल गांधी कुछ ओर समय तक पार्टी अध्यक्ष रह सकते हैं, लेकिन इसके लिए उन्होंने कुछ शर्ते रखी हैं।


राहुल गांधी ने दो वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से मुलाकात कर कहा - मेरा विकल्प खोज लो , इस्तीफा वापस नहीं लूंगा

सूत्रों के अनुसार , पार्टी अध्यक्ष बने रहने के अनुरोध के बीच राहुल गांधी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के साथ कई दौर की बैठकें की । कहा जा रहा है कि राहुल गांधी सशर्त अध्यक्ष पद पर बने रहने के लिए राजी हो गए हैं। राहुल गांधी ने कहा गया है कि वह अपनी मर्जी के अनुसार पार्टी को चलाएं । पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि पार्टी को उनका कोई विकल्प नहीं मिल रहा है । ऐसे में वह पार्टी की कार्यप्रणाली में जो भी बदलाव करना चाहते हैं करें , लेकिन पद पर बने रहें।

 

Todays Beets: