Tuesday, May 24, 2022

Breaking News

    रोडरेज मामले में सिद्धू को 1 साल कठोर कारावास की सजा, SC ने 34 साल पुराने केस में सुनाई सज़ा    ||   बिहार विधानसभा में कानून व्यवस्था को लेकर हंगामा, CPI-ML के 12 विधायकों को किया गया बाहर     ||   गौतमबुद्ध नगर के तीनों प्राधिकरणों के 49,500 करोड़ नहीं चुका रहीं रियल एस्टेट कंपनियां     ||   आंध्र प्रदेश: गुड़ी पड़वा के जश्न के दौरान भक्तों के बीच मंदिर में मारपीट, दुकानों में तोड़फोड़-आगजनी     ||   दिल्ली एयरपोर्ट पर रोके जाने के खिलाफ दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचीं राणा अयूब     ||   सोनिया गांधी ने बोला केंद्र पर हमला, लगाया MGNREGA का बजट कम करने का आरोप     ||   केजरीवाल के आवास पर हमला: दिल्ली HC पहुंची AAP, एसआईटी गठन की मांग की     ||   राज्यसभा जा सकते हैं शिवपाल यादव! दो दिन से जारी है बीजेपी मुलाकातों का दौर     ||   यूपी हज समिति के अध्यक्ष बने मोहसिन रजा, राज्यमंत्री का भी दर्जा मिला     ||   दिल्ली: नई शराब नीति के विरोध में BJP, पटेल नगर समेत 14 जगहों पर शराब की दुकानें की सील     ||

LIVE - राहुल गांधी 72 घंटों में सशर्त कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने को तैयार, कहा- वक्त लिजिए और गैर गांधी अध्यक्ष चुनिए

अंग्वाल संवाददाता
LIVE - राहुल गांधी 72 घंटों में सशर्त कांग्रेस अध्यक्ष पद पर बने रहने को तैयार, कहा- वक्त लिजिए और गैर गांधी अध्यक्ष चुनिए

नई दिल्ली । लोकसभा चुनावों में मिली हार के बाद कांग्रेस की वर्किंग कमेटी में पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपने इस्तीफे की पेशकश की । इतना ही नहीं इस दौरान राहुल गांधी ने कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेताओं पर अपने बच्चों को टिकट दिलवाने के लिए ज्यादा सक्रिय होने और चुनावों पर कम ध्यान देने की बातें तक कह डालीं। इस सब में उन्होंने राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का भी नाम लिया था । इस सब के बीच खबर है कि अपने इस्तीफे की पेशकश के 72 घंटे के भीतर ही राहुल गांधी के तेवर नरम पड़ गए हैं। सूत्रों का कहना है कि पार्टी नेताओं के काफी मानमनोव्वल के बाद राहुल सशर्त पार्टी अध्यक्ष बने रहने पर मानते नजर आ रहे हैं। पार्टी नेताओं ने राहुल से कहा है कि पार्टी को उनका विकल्प नहीं मिल रहा है । वह अपनी मर्जी से पार्टी को चलाएं । वहीं मंगलवार सुबह अशोक गहलोत एक बार फिर राहुल गांधी से मिलने पहुंचे, इससे पहले सचिन पायलट भी राहुल गांधी से मिले ।

MODI वाराणसी  - इस बार के चुनावों में अंकगणित ने केमिस्ट्री को हराया , यूपी ने लोकतंत्र की नींव मजबूत की

बता दें कि लोकसभा चुनावों में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन के बदस्तूर जारी रहने के क्रम से आहत होकर पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने वर्किंग कमेटी की बैठक में  अपने इस्तीफे की पेशकश कर डाली । हालांकि वर्किंग कमेटी ने उनके इस्तीफे की पेशकश को खारिज कर दिया है , लेकिन राहुल गांधी ने अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल से मिलकर अपना विकल्प खोजने के लिए कहा था । लेकिन अब कहा जा रहा है कि राहुल के तेवर नरम पड़ गए हैं।  खबर है कि राहुल गांधी कुछ ओर समय तक पार्टी अध्यक्ष रह सकते हैं, लेकिन इसके लिए उन्होंने कुछ शर्ते रखी हैं।


राहुल गांधी ने दो वरिष्ठ कांग्रेसी नेताओं से मुलाकात कर कहा - मेरा विकल्प खोज लो , इस्तीफा वापस नहीं लूंगा

सूत्रों के अनुसार , पार्टी अध्यक्ष बने रहने के अनुरोध के बीच राहुल गांधी ने कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी और वरिष्ठ नेता अहमद पटेल के साथ कई दौर की बैठकें की । कहा जा रहा है कि राहुल गांधी सशर्त अध्यक्ष पद पर बने रहने के लिए राजी हो गए हैं। राहुल गांधी ने कहा गया है कि वह अपनी मर्जी के अनुसार पार्टी को चलाएं । पार्टी के वरिष्ठ नेताओं का कहना है कि पार्टी को उनका कोई विकल्प नहीं मिल रहा है । ऐसे में वह पार्टी की कार्यप्रणाली में जो भी बदलाव करना चाहते हैं करें , लेकिन पद पर बने रहें।

 

Todays Beets: