Sunday, August 14, 2022

Breaking News

   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||   कोरोना से 24 घंटे में 16678 लोग हुए संक्रमित     ||   उद्धव ठाकरे ने विधायकों को लिखी भावुक चिट्ठी     ||   सुप्रीम कोर्ट मे विजय माल्या का बड़ा झटका, अवमानना मामले में दोषी करार     ||   सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में विधायकों की अयोग्यता पर फैसला लेने से स्पीकर को रोका     ||   मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, कुलगाम में बैंक मैनेजर की हत्या में शामिल था: IGP कश्मीर     ||

राज ठाकरे की MNS का शिवसेना पर कटाक्ष - कैसा लग रहा है , उद्धव बोले - सुखे पत्तों को जाने दो - नए को आने दो

अंग्वाल न्यूज डेस्क
राज ठाकरे की MNS का शिवसेना पर कटाक्ष - कैसा लग रहा है , उद्धव बोले - सुखे पत्तों को जाने दो - नए को आने दो

मुंबई । महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच अब शिवसेना से अलग होकर राज ठाकरे द्वारा बनाई गई महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना की भी एंट्री हो गई है । असल में MNS की ओर से मुंबई के साकीनाका इलाके में एक पोस्ट लगाया गया है , जिसमें लिखा गया है ... आता कसं वायतंय यानी कैसा लग रहा है । इससे इतर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इस बार थोड़ी कठोर भाषा का इस्तेमाल करते हुए कहा कि सूखे पत्तों को जाने दो नए पत्तों को आने दो । वे बोले - मर जाएंगे फिर भी शिवसेना नहीं छोड़ेंगे, कहने वाले आज भाग गए । बागी विधायक शिवसेना तोड़ना चाहते हैं । 

पार्टी जिला प्रमुख की बैठक के दौरान उद्धव ठाकरे बोले कि मैंने अपने पास के दो विभाग एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) को दिए । वह शिंदे पर तंज कसते हुए बोले - विधायकों को लेना है तो ले लो, जितना हो सके इंसाफ ले लो...लेकिन जब तक बालासाहेब की जड़ें हैं, शिवसेना को कुछ नहीं होगा । इस बीच शिंदे गुट के विधायक मंगेश कुडालकर के दफ्तर पर हमला हुआ है । कहा जा रहा है कि यह हमला शिवसेना ने किया है । 

आदित्य ठाकरे बोले - पैसे के लिए चले गए विधायक

वहीं आदित्य ठाकरे ने कहा कि इससे पहले भी लोगों ने शिवसेना से गद्दारी की है लेकिन उस वक्त ऐसा हुआ था कि शख्स ने विपक्ष को छोड़ दिया और अपने लालच में ही सत्ताधारी दल में शामिल हो गया । सत्ता आती है और चली जाती है, लेकिन लोग उस काम का समर्थन करते हैं जो उद्धव ठाकरे ने पिछले ढाई साल में किया है । वह बोले - पहले भी लोगों ने शिवसेना को धोखा दिया । शिवसेना से बगावत करने वाले विधायक पैसों के लिए धोखा देकर गए हैं । मेरी मां ने मुझसे कहा कि जिन्हें बच्चों की तरह पाला वो पैसे के लिए कैसे चले गए । 

हम वास्तविक शिवसेना - शिंदे

शिवसेना से बगावत करने वाले शिंदे पार्टी के 37 विधायकों और नौ निर्दलीय विधायकों के साथ फिलहाल गुवाहाटी के एक होटल में हैं । उन्होंने पार्टी पर दावा ठोका है । एकनाथ शिंदे ने फिर से दावा किया कि हम ‘वास्तविक शिवसेना’ हैं।  विधायकों को अयोग्य करार दिए जाने की धमकियों से मैं और मेरे समर्थकों को डराया नहीं जा सकता है । 


मैंने अभी लड़ाई नहीं छोड़ी

इस दौरान उद्धव ठाकरे बोले - मैंने अभी लड़ाई नहीं छोड़ी है. अगर किसी को ऐसा लगता है वर्षा छोड़कर मैं मातोश्री आ गया हूं तो यह मेरी हार का संकेत है तो बता दूं कि मैं अब भी हर लड़ाई के लिए तैयार हूं । इससे पहले वह बोले थे- मैं बागी विधायकों को मनाने की कोशिश कर रहा हूं । उन्होंने यह भी कहा कि वो शिवसेना अध्यक्ष का पद छोड़ने को तैयार हैं । 

अजित पवार बोले - शिवसेना को पूरा समर्थन

इसी क्रम में अजित पवार ने कहा कि हमारी पार्टी का पूरा सपोर्ट सीएम के रूप में उनके (उद्धव ठाकरे) साथ है । आज जो मुलाकात होगी उस दौरान एनसीपी प्रमुख शरद पवार भी वहां मौजूद रहेंगे ।  दरअसल महाराष्ट्र के सीएम उद्धव ठाकरे बार-बार ये बात कह भी चुके हैं कि उन्हें मुख्यमंत्री बनाने के पीछे सबसे बड़ा हाथ शरद पवार का है । 

विधायकों के निलंबन का अनुरोध

महाराष्ट्र में चल रही सियासी उठापटक के बीच अब शिवसेना (Shiv Sena) ने चार और विधायकों के निलंबन का अनुरोध डिप्टी स्पीकर (Deputy Speaker) को भेजे जाने की बात कही है । जिन 4 नए विधायकों के खिलाफ एक्शन की मांग शिवसेना (Shiv Sena) की तरफ से की गई है, उनमें सदा सरवणकर, प्रकाश आबिटकर, संजय रायमुलकर, रमेश बोरनारे के नाम हैं । इन चार नामों के साथ अब तक शिवसेना ने 16 विधायकों को अयोग्य घोषित करने की मांग डिप्टी स्पीकर के सामने रखी है । इससे पहले शिवसेना ने 12 बागी विधायकों को अयोग्य ठहराने की मांग विधानसभा के डिप्टी स्पीकर के सामने रखी थी । शिवसेना ने एक चिट्ठी के जरिए इन विधायकों के नाम विधानसभा डिप्टी स्पीकर को भेजे थे. इनमें एकनाथ शिंदे, अब्दुल सत्तार, संदीपान भुमरे, प्रकाश सुर, तानाजी सावंत, महेश शिंदे, अनिल बाबर, यामिनी जाधव, संजय शिरसाट, भरत गोगावले, बालाजी किणीकर और लता सोनावणे का नाम शामिल था । 

Todays Beets: