Tuesday, October 4, 2022

Breaking News

   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||

गृहमंत्री अमित शाह की सुरक्षा में चूक , हैदराबाद में काफिल के आगे TRS नेता ने रोकी अपनी कार

अंग्वाल न्यूज डेस्क
गृहमंत्री अमित शाह की सुरक्षा में चूक , हैदराबाद में काफिल के आगे TRS नेता ने रोकी अपनी कार

तेलंगाना । केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की हैदराबाद यात्रा के दौरान उनकी सुरक्षा में सेंध का मामला सामने आया है । असल में शनिवार सुबह हैदराबाद की यात्रा पर गए अमित शाह के काफिल के आगे टीआरएस नेता श्रीनिवास ने अपनी कार रोक दी । सुरक्षाकर्मियों ने अमित शाह के काफिल के आगे आई इस कार को हटाने के लिए एक्शन किया । इतना ही नहीं पुलिसकर्मियों ने टीआरएस नेता श्रीनिवास को हिरासत में ले लिया है । इस घटनाक्रम पर श्रीनिवास ने कहा कि कार यूं ही रुक गई । मैं तनाव में था । मैं पुलिस अधिकारी से इस बारे में बात करूंगा । उन्होंने मेरी कार में तोड़फोड़ की । 

बता दें कि टीआरएस नेता श्रीनिवास ने हैदराबाद में गृह मंत्री अमित शाह के काफिले के सामने अपनी कार खड़ी की । हालांकि, बाद में सुरक्षाकर्मियों ने उनको और उनकी कार को जबरन गृह मंत्री अमित शाह के काफिले के रास्ते से हटा दिया । 

इससे इतर , अमित शाह ने ‘हैदराबाद मुक्ति दिवस’ पर आयोजित समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि अगर सरदार पटेल नहीं होते, तो हैदराबाद को मुक्त कराने में कई और साल लग जाते । उन्होंने कहा कि सरदार पटेल जानते थे कि जब तक निजाम के रजाकारों को हरा नहीं दिया जाता, तब तक अखंड भारत का सपना साकार नहीं होगा । 

उन्होंने कहा कि इतने साल बाद, इस भूमि के लोगों की इच्छा थी कि ‘हैदराबाद मुक्ति दिवस’ को सरकार की भागीदारी से मनाया जाना चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य की बात है कि 75 साल बाद भी यहां शासन करने वाले वोट बैंक की राजनीति के कारण ‘हैदराबाद मुक्ति दिवस’ मनाने का साहस नहीं जुटा पाए । कई लोगों ने चुनावों और विरोध प्रदर्शनों के दौरान मुक्ति दिवस मनाने का वादा किया, लेकिन जब वे सत्ता में आए, तो रजाकारों के भय से अपने वादों से मुकर गए । 

Todays Beets: