Friday, June 18, 2021

Breaking News

   राम मंदिर ट्रस्ट में भी उठे जमीन खरीद पर सवाल, सीएम योगी ने मांगी रिपोर्ट     ||   यूपीः बसपा से बागी हुए 9 विधायक आज अखिलेश यादव से करेंगे मुलाकात     ||   वैक्सीन विवाद पर अखिलेश यादव बोले, पहले यूपी की सारी जनता को लग जाए, फिर मैं लगवा लूंगा     ||   कांग्रेस ने चिराग को दिया न्योता, एमएलसी प्रेम चंद बोले- उनके आने से बिहार में विपक्ष मजबूत होगा     ||   बिहार में कल से एक हफ्ते तक लॉकडाउन में ढील, लेकिन नाइट कर्फ्यू लागू रहेगा     ||   पाकिस्तान: आपस में दो ट्रेन टकराईं, 30 की मौत, ट्रेन में अभी भी फंसे हुए हैं बहुत से यात्री     ||   उत्तराखंड: सुनगर के पास हुआ भारी भूस्खलन, गंगोत्री हाइवे हुआ बंद, खुलने में लगेगा वक्त     ||   विवादों में आई 'Family Man 2', बैन लगाने के लिए तमिल नेताओं ने Amazon को लिखा पत्र     ||   केरलः पीटी उषा की सीएम विजयन से अपील- सभी खिलाड़ियों, उनके कोच और स्टाफ को वैक्सीनेट किया जाए     ||   इंडियन मेडिकल एसोसिएशन का दावा, कोरोना की दूसरी लहर में 269 डॉक्टरों ने जान गंवाई     ||

न स्टॉक देखा न WHO की गाइडलाइन , बस कर दिया टीकाकरण का विस्तार , सीरम इंस्टीट्यूट का मोदी सरकार पर तंज  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
न स्टॉक देखा न WHO की गाइडलाइन , बस कर दिया टीकाकरण का विस्तार , सीरम इंस्टीट्यूट का मोदी सरकार पर तंज  

नई दिल्ली । देश में कोरोना वायरस की वैक्सीन की कमी को लेकर जारी विवाद में नया मोड़ आ गया है । देश में कोरोना की वैक्सीन बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के एक वरिष्ठ निदेशक ने मोदी सरकार को वैक्सीन को लेकर जारी विवाद के बीच आड़े हाथ लेते हुए कहा कि सरकार ने न ही अब तक तैयार स्टाक को देखा , न ही उन्होंने विश्व स्वास्थ्य संगठन की गाइडलाइन पर नजर दौड़ाई और बस टीकाकरण का विस्तार कर दिया । सरकार को WHO की गाइडलाइन को ध्यान में रखते हुए ही लोगों को वैक्सीनेशन में प्राथमिकता देनी चाहिए थी । उन्होंने कहा कि हम अभी प्राथमिक चरण के लोगों के लिए वैक्सीन तैयार कर रहे थे कि सरकार ने 45 साल से ऊपर वालों के लिए और फिर 18 साल से ऊपर वालों के लिए भी वैक्सीन लगाने का ऐलान कर दिया ।

बता दें कि पिछले दिनों देश के कई राज्यों ने वैक्सीन की कमी के चलते अपने यहां वैक्सीनेशन का कार्यक्रम शुरू करने से मना कर दिया है । मोदी सरकार पर अनियमितता बरतने और देश के लोगों से पहले वैक्सीन को एक्सपोर्ट करने के आरोप लगाए गए । इस सबके बीच अब सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के वरिष्ठ निदेशक सुरेश जाधव ने कहा कि मोदी सरकार ने वैक्सीनेशन का विस्तार तो कर दिया लेकिन उन्होंने न तो स्टॉक देखा और न ही डब्ल्यूएचओ की गाइडलाइन ही देखी । 


उन्होंने कहा कि पहले चरण में हमें 300 मिलियन लोगों को वैक्सीन लगानी थी , जिसके लिए 600 मिलियन डोज तैयार करनी थी । हम इस टारगेट तक पहुंच पाते , इससे पहले ही सरकार ने 45 साल से ऊपर वालों के लिए और उसके बाद 18 साल से ऊपर वालों के लिए वैक्सीन लगाने की तारीखों का ऐलान कर दिया । यह सब ऐसे समय में हुआ जब सरकार को इस बात की जानकारी थी कि हमारे पास अभी इतना स्टॉक नहीं है । सरकार को इस सबसे पहले स्टॉक की उपलब्धता का ध्यान रखना था । 

 

Todays Beets: