Friday, August 19, 2022

Breaking News

   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||   अगले साल अंतरिक्ष जाएंगे भारतीय , एक या दो भारतीयों को भेजने की योजना है     ||   कोरोना से 24 घंटे में 16678 लोग हुए संक्रमित     ||   उद्धव ठाकरे ने विधायकों को लिखी भावुक चिट्ठी     ||   सुप्रीम कोर्ट मे विजय माल्या का बड़ा झटका, अवमानना मामले में दोषी करार     ||   सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र में विधायकों की अयोग्यता पर फैसला लेने से स्पीकर को रोका     ||   मुठभेड़ में एक आतंकी मारा गया, कुलगाम में बैंक मैनेजर की हत्या में शामिल था: IGP कश्मीर     ||

संयुक्त किसान मोर्चा फिर उतरेगा सड़कों पर , अग्निपथ योजना वापस लेने को कल से राष्ट्रव्यापी अभियान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संयुक्त किसान मोर्चा फिर उतरेगा सड़कों पर , अग्निपथ योजना वापस लेने को कल से राष्ट्रव्यापी अभियान

नई दिल्ली । देश में किसान आंदोलन से अस्तित्व में आया संयुक्त किसान मोर्चा एक बार फिर से सड़कों पर उतरने की योजना बना रहा है । ऐसी खबरें हैं कि इस मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha) ने अब सैन्य भर्ती के लिए केंद्र सरकार की 'अग्निपथ योजना' (Agnipath Scheme) के खिलाफ एक राष्ट्रव्यापी अभियान शुरू करने की योजना बनाई है । स्वराज इंडिया के अध्यक्ष योगेंद्र यादव (Swaraj India president Yogendra Yadav) ने संयुक्त मोर्चा की इस नई रणनीति के बारे में जानकारी देते हुए बताया कि वे इस नए अभियान को पूर्व सैनिकों के संयुक्त मोर्चा और कई युवा संगठनों के सहयोग से शुरू करेंगे । उन्होंने कहा कि 7 अगस्त से 14 अगस्त तक ‘जय जवान जय किसान’ सम्मेलन आयोजित होगा । 

अग्निपथ योजना के विनाशकारी परिणाम लोगों को बताएंगे

इस दौरान योगेंद्र यादव ने कहा, हमारे इस अभियान का मकसद है कि केंद्र सरकार की सेना भर्ती योजना , जिसे 'अग्निपथ योजना' का नाम दिया है , इसके विनाशकारी परिणामों के बारे में देश की जनता को बताएं ।  केंद्र को लोकतांत्रिक, शांतिपूर्ण और संवैधानिक साधनों का इस्तेमाल करके इसे वापस लेने के लिए मजबूर करना है । योगेंद्र यादव ने एक प्रेस कॉन्फ्रेस को संबोधित करते हुए कहा, अगर (3) कृषि कानून सख्त थे, तो 'अग्निपथ योजना' विनाशकारी है । संकट में हमारे किसानों और सैनिकों के साथ हमारे देश की रीढ़ की हड्डी टूटने का खतरा है ।  

ये भी पढ़ें - जगदीप धनखड़ बने देश के नए उपराष्ट्रपति , NDA उम्मीदवार को मिले 528 वोट , अल्वा को 182 मत

संयुक्त किसान मोर्चा का कार्यक्रम


वह बोले - इस अभियान के तहत कुछ प्रमुख कार्यक्रम रविवार को हरियाणा के जींद जिले, मथुरा (उत्तर प्रदेश) और कोलकाता में होंगे । 9 अगस्त को कार्यक्रम रेवाड़ी (हरियाणा) और मुजफ्फरनगर (उत्तर प्रदेश) में होंगे ।10 अगस्त को इंदौर (मध्य प्रदेश) और मेरठ (उत्तर प्रदेश) में और 11 अगस्त को पटना में कार्यक्रम होंगे । वह बोले -  'अग्निपथ योजना' को वापस लिया जाना चाहिए और नियमित और स्थायी भर्ती की पुरानी व्यवस्था बहाल की जानी चाहिए । 

ये भी पढ़ें - चीन की युद्ध की धमकियों के बीच ताइवान को बड़ा झटका , चीफ मिसाइड प्रोडक्शन अधिकारी की संदिग्ध मौत

जानें क्या है सेना भर्ती की 'अग्निपथ योजना' 

विदित हो कि केंद्र सरकार ने हाल में सेना भर्ती के लिए 'अग्निपथ योजना' (Agnipath Scheme) लॉंच की थी , इसका देश के कई हिस्सों में काफी हंगामा हुआ , लेकिन एक बार सरकार द्वारा इसे वापस लेने से मना किया तो प्रदर्शन भी खत्म हो गए । असल में सेना की ओर से 14 जून 2022 को इस योजना का ऐलान किया गया । एक नई योजना (Agnipath Scheme) के तहत सशस्त्र बलों (Armed Forces) की तीन सेनाओं के लिए भर्ती होगी । यह भर्ती का एकमात्र रास्ता होगा । इसके तहत जवानों को मात्र 4 साल के लिए सेना में भर्ती किया जाएगा , जिनमें से 25 फीसदी जवानों को ही आगामी 4 चार बाद सेना में नियमित किया जाएगा । बाकि को रियाटर कर दिया जाएगा । इस सिस्टम के तहत भर्ती किए गए कर्मियों को अग्निवीर कहा जाएगा और इन्हें रिटायर होने पर एकमुश्त रकम दी जाएगी , लेकिन सेना के नियमित जवानों की तरह रियाटर होने के बाद कोई सुविधाएं नहीं ।

Todays Beets: