Tuesday, November 30, 2021

Breaking News

   टीम इंडिया भी रद्द कर सकती है साउथ अफ्रीका दौरा? इस वजह से बढ़ी टेंशन     ||   CJI सीजेआई ने सरकार को दी ये नसीहत, कहा- तभी निडर होकर काम कर पाएंगे जज     ||   DNA: अमेरिका की महागरीबी का विश्लेषण, 17 प्रतिशत आबादी है गरीबी रेखा से नीचे     ||   कृषि कानूनों को रद्द करने का रास्ता साफ, लोक सभा में कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर पेश करेंगे बिल     ||   52वां इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया 20 से 28 नवंबर तक गोवा में होगा     ||   पीएम मोदी की अपील- मेड इन इंडिया सामान खरीदने पर जोर दें, इसके लिए सब प्रयास करें     ||   भारत में 100 करोड़ वैक्सीनेशन पर बिल गेट्स ने दी पीएम मोदी को बधाई     ||   सेना की 39 महिला अफसरों की बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन; SC ने दिया आदेश     ||   बिहार में महागठबंधन टूटा, कांग्रेस का ऐलान 2024 के आम चुनाव में सभी 40 सीटों पर लड़ेगी पार्टी     ||   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||

SC ने सरकारों को लगाई फटकार - प्रदूषण मुद्दे को भटकाएं नहीं , आखिर पाबंदी के बावजूद दिल्ली में कैसे पटाखे चले 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
SC ने सरकारों को लगाई फटकार - प्रदूषण मुद्दे को भटकाएं नहीं , आखिर पाबंदी के बावजूद दिल्ली में कैसे पटाखे चले 

नई दिल्ली । दिल्ली एनसीआर में प्रदूषण की बेहतर खराब स्थिति को लेकर सुप्रीम कोर्ट में बुधवार को भी सुनवाई हुई । इस दौरान केंद्र समेत पंजाब , हरियाणा , दिल्ली सरकार ने भी कोर्ट में अपने हलफनामें दर्ज किए । कोर्ट ने इन सबके हलफनामों पर नजर डालने के बाद सबको फटकार लगाते हुए कहा कि इस मुद्दे को भटकाने की कोशिश न की जाए । इस दौरान चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया ने अपनी नाराजगी जताते हुए कहा कि जब दिल्ली में पटाखे फोड़ने पर प्रतिबंध था तो आखिर लोगों को पटाखे कैसे चलाने दिए गए । कोर्ट ने कहा कि हम चाहते हैं दिल्ली एनसीआर में छाए ये काले बादल साफ हों , ताकि लोगों को राहत मिल सके । 

विदित हो कि कोर्ट में प्रदूषण मुद्दे पर सुनवाई करते हुए CJI ने कहा ये आंकड़े हमारे लिए महत्वपूर्ण नहीं हैं । मुद्दे को घुमाने की कोशिश ना हो । हमें प्रदूषण कम करने की चिंता है । उन्होंने पूछा कि अब तक प्रदूषण को रोकने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं । 

प्रदूषण पर सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने नाराजगी जताई. कोर्ट ने पूछा कि बैन के बावजूद पटाखे क्यों चले? सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली सरकार से पूछा कि क्या आप बता सकते हैं कि आपने प्रदूषण पर नियंत्रण के लिए क्या कदम उठाए ।


इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने उठाए गए कदमों के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि वायु गुणवत्ता प्रबंधन समिति की बैठक में सचिव पॉवर ,सचिव डीओपीटी, हरियाणा, पंजाब, दिल्ली के मुख्य सचिव बैठक में उपस्थित थे । दिल्ली के 300 किलोमीटर में 11 थर्मल प्लांटों में से, केवल 5 काम कर रहे हैं । अन्य को बंद कर दिया गया है और यदि कोई आवश्यकता है तो इस दायरे से बाहर के संयंत्रों को भी बंद किया जा सकता है । 

उन्होंने कहा कि इसके अलावा 10 साल से अधिक (पुराने डीजल या पेट्रोल से चलने वाले) कोई भी वाहन सड़क पर नहीं चलेंगे । हमने केंद्रीय कर्मियों के वर्क फ्रॉम होम पर भी विचार किया, लेकिन ये देखा गया है कि संख्या बहुत अधिक नहीं है, ऐसे में उन्हें कार पूल करने की सलाह दी गई है । मेहता ने कहा, केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए WFH संभव नहीं है । दरअसल, कोरोना के चलते पहले ही काम काफी प्रभावित हो चुका है । 

 

Todays Beets: