Tuesday, October 26, 2021

Breaking News

   52वां इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया 20 से 28 नवंबर तक गोवा में होगा     ||   पीएम मोदी की अपील- मेड इन इंडिया सामान खरीदने पर जोर दें, इसके लिए सब प्रयास करें     ||   भारत में 100 करोड़ वैक्सीनेशन पर बिल गेट्स ने दी पीएम मोदी को बधाई     ||   सेना की 39 महिला अफसरों की बड़ी जीत, मिलेगा स्थायी कमीशन; SC ने दिया आदेश     ||   बिहार में महागठबंधन टूटा, कांग्रेस का ऐलान 2024 के आम चुनाव में सभी 40 सीटों पर लड़ेगी पार्टी     ||   तेजस्वी यादव बोले- पेड़, जानवरों की गिनती हो सकती है तो फिर जाति आधारित जनगणना क्यों नहीं     ||   तालिबान की अमेरिका को धमकी, 31 अगस्त के बाद भी रही सेना तो अंजाम भुगतने के लिए तैयार रहे    ||   कर्नाटक CM से स्थानीय BJP विधायक की मांग- कोरोना के चलते किसी भी हिंदू पर्व पर ना लगे बंदिशें    ||   तेजप्रताप की नाराजगी के सवाल पर बोले तेजस्वी- राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर ही देंगे जवाब    ||   अंडमान एंड निकोबार के पोर्ट ब्लेयर में महसूस किए गए 4.3 तीव्रता के भूकंप     ||

सुप्रीम कोर्ट ने लगाई किसान महापंचायत को फटकार , कहा - आपने पूरे शहर को बंधक बनाया अब शहर में घुसना चाहते हैं

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने लगाई किसान महापंचायत को फटकार , कहा - आपने पूरे शहर को बंधक बनाया अब शहर में घुसना चाहते हैं

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को किसानों की महापंचायत (Kisan Mahapanchayat) को कड़ी फटकार लगाई है । दिल्ली के जंतर मंतर (Jantar Mantar) पर महापंचायत करने की इजाजत संबंधी मामले को लेकर शीर्ष अदालत ने कहा कि आप लोगों ने तो धंधा ही बना लिया है । आप लोगों की वजह से सड़कें जाम हो गई हैं । लोग सड़कों पर कई घंटे तक खड़े रहते हैं । आपने पूरे शहर को बंधक बनाया और अब शहर के अंदर घुसना चाहते हैं । बहरहाल , इस मामले में अगली सुनवाई 4 अक्तूबर को होगी ।

बता दें कि जस्टिस खंडविलकर ने कहा अगर आपके आपके पास अधिकार है तो लोगों के पास भी अधिकार है । सुप्रीम कोर्ट की जगह आप हाई कोर्ट भी जा सकते थे , लेकिन अब आप शहर के अंदर घुसकर प्रदर्शन करना चाहते हैं । इस दौरान कोर्ट का रुख काफी कड़ा दिखा । जब याचिककर्ता की ओर से अधिवक्ता अजय चौधरी ने कहा कि सड़क हमारी वजह से जाम नहीं हुई है । पुलिस ने सड़कें बंद कर रखी हैं । हम उस धरने का हिस्सा नहीं हैं। 

इस पर कोर्ट में फटकार लगाते हुए जस्टिस खंडविलकर ने कहा कि आप धरना भी देंगे और कोर्ट में याचिका भी दाखिल करेंगे । सुनवाई के दौरान याचिकाकर्ता ने कहा कि हम शांतिपूर्ण धरना करके तीन कृषि कानूनों का विरोध करना चाहते हैं । इस पर जस्टिस खंडविलकर ने कहा कि अगर आप उस धरने का हिस्सा नहीं है तो याचिका पर नोटिस करेंगे । 


कोर्ट में अधिवक्ता अजय चौधरी ने कहा कि हम हलफनामा देंगे कि हम सड़क जाम कर धरना देने वाले किसानों में शामिल नहीं हैं । सुप्रीम कोर्ट ने याचिका की कॉपी अटॉर्नी जनरल (AG) को देने को कहा है। 

 

Todays Beets: