Monday, October 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

सुप्रीम कोर्ट ने घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत दिया ऐतिहासिक फैसला , परिवार की बहु के पक्ष में दिया यह फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुप्रीम कोर्ट ने घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत दिया ऐतिहासिक फैसला , परिवार की बहु के पक्ष में दिया यह फैसला

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को महिलाओं के मद्देनजर एक ऐतिहासिक फैसला सुनाया है । घरेलू हिंसा अधिनियम (Domestic Violence Act) के तहत देश की शीर्ष अदालत ने एक मामले में अपना फैसला सुनाते हुए कहा कि किसी भी परिवार की बहू को आश्रित ससुराल में रहने का पूरा अधिकार है । सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि परिवार की बहू को पति या परिवार के सदस्यों द्वारा साझा घर से नहीं निकाला जा सकता। कोर्ट ने साफ किया कि भले ही घर पति का हो , ससुरालियों का हो या किराये पर लिया गया हो, उसे घर से कोई बाहर नहीं कर सकता । 

बॉलीवुड के मुद्दे पर भड़के उद्धव ठाकरे , बोले- फिल्म इंडस्ट्री को मुंबई से शिफ्ट करने की साजिश , हम बदार्श्त नहीं करेंगे

जस्टिस अशोक भूषण, जस्टिस आर सुभाष रेड्डी और जस्टि एमआर शाह की तीन सदस्यी पीठ ने यह ऐतिसाहिस फैसला सुनाते हुए साफ कर दिया कि पीड़िता को कोई घर से बेदखल नहीं कर सकता । असल में दिल्ली के परिवार द्वारा दाखिर किए गए एक मामले पर सुनवाई करते हुए इस तीन सदस्यीय पीठ ने कहा - देश में आज भी हर रोज कई महिलाएं घरेलू हिंसा का शिकार हो रही हैं , जिसे रोकने के लिए अब बड़े कदम उठाने की जरूत है । इस दिशा में कड़े कदम उठाने की जरूरत है । घरेलू हिंसा अधिनियम के तहत प्रत्येक महिला को साझा घर में निवास करने का अधिकार होगा ।


बलिया गोलीकांड - मुख्य आरोपी के भाई समेत 5 गिरफ्तार , भाजपा विधायक बोले - आत्मरक्षा में धीरेंद्र ने की फायरिंग

सुप्रीम कोर्ट ने कहा ‘अकेली महिला को जीवनकाल में कई बार हिंसा और भेदभाव का सामना करना पड़ता है ।  इसी दिशा में बना 2005 का कानून महिलाओं की सुरक्षा के लिए एक मील का पत्थर साबित हुआ है । इसमें उल्लिखित धारा 2 (एस) में दिए गए साझा घर की परिभाषा का मतलब उस घर से नहीं है जो संयुक्त परिवार का है, जिसमें पीड़िता के पति का हिस्सा है बल्कि जिसमें पति का स्वामित्व नहीं है उससे भी पीड़िता को बेदखल नहीं कर सकते । 

घाटी में फिर सियासी हंगामे की आशंका , ''गुपकार बैठक'' में अब्दुल्ला बोले - मोदी सरकार वापस दे हमारे अधिकार

Todays Beets: