Monday, March 1, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

SC ने बैंक लॉकरों को लेकर दिए निर्देश , कहा- अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते बैंक , ग्राहकों पर अपने नियम भी न थोपें

अंग्वाल न्यूज डेस्क
SC ने बैंक लॉकरों को लेकर दिए निर्देश , कहा- अपनी जिम्मेदारी से बच नहीं सकते बैंक , ग्राहकों पर अपने नियम भी न थोपें

नई दिल्ली । देश की सर्वोच्च अदालत ने बैंकों में लॉकरों को लेकर बड़ा बयान देते हुए कहा कि बैंक अपनी लॉकर सुविधा की जिम्मेदारियों से बच नहीं सकते हैं । उन्हें इसे लेकर व्यवस्था बनानी ही होगी । इसी क्रम में सुप्रीम कोर्ट ने आरबीआई को निर्देश दिए कि वह 6 महीने में इस मामले को लेकर नियम बनाए । कोर्ट ने कहा कि बैंक के लॉकरों में रखी आम आदमी की संपत्ति और अन्य दस्तावेजों को सुरक्षित रखने की जिम्मेदारी बैंकों की है , बैंक इससे बच नहीं सकते । 

बता दें कि पिछले कुछ समय में बैंक के लॉकरों में रखी गई संपत्ति और उसके उसे होने वाले नुकसान को लेकर बैंकों की ओर से बयान जारी हुए थे । इस पूरे मुद्दे ने काफी हंगामा भी खड़ा किया था । कुछ मामलों में बैंक ने लॉकरों की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने की बातें सामने आई थीं । 

इस सारे मामले को लेकर कोलकाता के अमिताभ दासगुप्ता ने राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निपटान आयोग के फैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। उस मामले में सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने न केवल बैंक को उक्त मामले में पीड़ित बैंक लॉकर धारक को नुकसान की भरपाई करने के आदेश दिए , बल्कि इस पूरे प्रकरण को लेकर भी निर्देश दिए । 


असल में कोर्ट ने बैंकों के लॉकर की जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ने को उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम की कई धाराओं का उल्लंघन करार दिया । कोर्ट ने कहा कि मौजूदा दौर में ऐसे फैसले और नियम निवेशकों के भरोसे को कमजोर करने का काम करते हैं । 

ऐसे में कोर्ट ने कहा कि मौजूदा दौर में ग्राहक बैंकों की दया पर निर्भर हो गए हैं , लेकिन बता दें कि बैंक अपनी जिम्मेदारी से पीछे नहीं हट सकते  । यह भी नहीं कह सकते कि लॉकरों की देखरेख की उनकी कोई जिम्मेदारी नहीं हैं । 

इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने भारतीय रिजर्व बैंक को निर्देश दिए कि वह बैंकों के लिए इस समस्या के निदान हेतु 6 महीने के भीतर दिशानिर्देश बनाकर जारी करें । इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने साफ किया कि बैंक ग्राहकों पर एकतरफा नियम नहीं थोप सकते ।  

Todays Beets: