Saturday, January 16, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा को सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई हरी झंडी , हेरिटेज कमेटी से अनुमोदन का निर्देश

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केंद्र सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा को सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई हरी झंडी , हेरिटेज कमेटी से अनुमोदन का निर्देश

नई दिल्ली । सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को केंद्र की मोदी सरकार को बड़ी राहत देते हुए उनकी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट ''सेंट्रल विस्टा'' को हरी झंडी दिखा दी है । असल में गत दिनों संसद की नई इमारत के निर्माण को लेकर कुछ लोगों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करते हुए इस प्रोजेक्ट पर प्रतिबंध लगाने की अपील की थी , लेकिन कोर्ट ने केंद्र सरकार के इस प्रोजेक्ट को सही माना । कोर्ट ने पर्यावरण कमेटी की रिपोर्ट को भी नियमों को अनुरुप माना है । इतना ही नहीं शीर्ष अदालत ने लैंड यूज चेंज करने के इल्जाम की वजह से सेंट्रल विस्टा की वैधता पर सवाल खड़े करने वाली याचिका को फिलहाल लंबित रखा है । 

बता दें कि मोदी सरकार के ड्रीम प्रोजेक्ट सेंट्रल विस्टा के तहत ही संसद की नई इमारत का निर्माण हो रहा है । इसके खिलाफ कई याचिकाएं दायर हुई थीं । इस मसले पर जस्टिस एएम खानविल्कर, दिनेश माहेश्वरी और संजीव खन्ना की तीन जजों की बेंच ने मंगलवार को अपना फैसला सुनाया । 

सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि हम सेंट्रल विस्टा परियोजना को मंजूरी देते समय पर्यावरण मंत्रालय द्वारा दी गई सिफारिशों को बरकरार रखते हैं ।  कोर्ट ने कहा कि इस परियोजना के निर्माण कार्य शुरू करने के लिए धरोहर संरक्षण समिति की स्वीकृति आवश्यक है । इसके साथ ही कोर्ट ने इस परियोजना को आगे बढ़ाने से पहले हेरिटेज कमेटी से अनुमोदन लेने का निर्देश दिया है । 

हालांकि केंद्र द्वारा विस्टा के पुनर्विकास योजना के बारे में भूमि उपयोग में बदलाव को अधिसूचित करने के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की गई है । अब कोर्ट इस पर भी सुनवाई करेगा । 


असल में गत दिनों पीएम मोदी ने नई संसद की आधारशिला रखी थी ।  इस दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उसे शिलान्यास करने पर कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने तक कोई निर्माण, तोड़फोड़ या पेड़ गिराने या स्थानांतरित करने का काम ना हो ।

इससे पहले सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा था कि वर्तमान संसद भवन गंभीर आग की आशंका और जगह की भारी कमी का सामना कर रहा था । ऐसे में इस प्रोजेक्ट के तहत हैरिटेज बिल्डिंग को संरक्षित किया जाएगा । मौजूदा संसद भवन 1927 में बना था जिसका उद्देश्य विधान परिषद के भवन का निर्माण था न कि दो सदन का था ।  

 

Todays Beets: