Monday, March 1, 2021

Breaking News

   सरकार की सत्याग्रही किसानों को इधर-उधर की बातों में उलझाने की कोशिश बेकार है-राहुल गांधी     ||   थाइलैंड में साइना नेहवाल कोरोना पॉजिटिव, बैडमिंटन चैम्पियनशिप में हिस्सा लेने गई हैं विदेश     ||   एयर एशिया के विमान से पुणे से दिल्ली पहुंची कोरोना वैक्सीन की पहली खेप     ||   फिटनेस समस्या की वजह से भारत-ऑस्ट्रेलिया चौथे टेस्ट से गेंदबाज जसप्रीत बुमराह बाहर     ||   दिल्ली: हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला की पार्टी विधायकों के साथ बैठक, किसान आंदोलन पर चर्चा     ||   हम अपने पसंद के समय, स्थान और लक्ष्य पर प्रतिक्रिया देने का अधिकार सुरक्षित रखते हैं- आर्मी चीफ     ||   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||

सुशांत को ड्रग्स देने वाले पूर्व असिस्टेंट डायरेक्टर ऋषिकेश पवार को दबोचने के लिए NCB का नया अभियान

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सुशांत को ड्रग्स देने वाले पूर्व असिस्टेंट डायरेक्टर ऋषिकेश पवार को दबोचने के लिए NCB का नया अभियान

नई दिल्ली । कोरोना काल के दौरान खुदकुशी करने वाले फिल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में अब नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) ने एक नया अभियान लॉन्च किया है । सुशांत के पूर्व असिस्टेंट डायरेक्टर ऋषिकेश पवार फरार हैं, जिनकी खोज में NCB ने सर्च अभियान की शुरुआत की है । आरोप है कि ऋषिकेश पवार भी सुशांत सिंह राजपूत को ड्रग्स सप्लाई करते थे । एनसीबी इस मामले में ऋषिकेश से पूछताछ कर चुकी है । बहरहाल , एक बार फिर से सुशांत सिंह राजपूत के सुसाइड मामले के सुर्खियों में आने पर अब कुछ लोगों के हाथ पांव फिर से फूलने लगे हैं । 

बता दें कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के जोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े के मुताबिक, 'ऋषिकेश पवार की तलाश जारी है । वो सुशांत सिंह राजपूत के ड्रीम प्रोजेक्ट में असिस्टेंट डायरेक्टर थे । जांच एजेंसी के हाथ ऐसे कई सबूत मिले हैं,  जिसमें ये साफ हुआ है कि ऋषिकेश पवार ही सुशांत को ड्रग्स सप्लाई करते थे । एनसीबी ने ऋषिकेश के घर से लैपटॉप सीज़ किया है, जिसमें कुछ डाटा भी मिला है । कई बार एनसीबी ने उन्हें बुलाया लेकिन वो नहीं आए, अब जब उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारज हो गई है तो हमने उन्हें पकड़ने का प्लान बनाया है।' 


बता दे कि पिछले साल सितंबर में जब ड्रग्स मामले की जांच अपने चरम पर थी, तब एक ड्रग्स सप्लायर ने ऋषिकेश पवार का नाम लिया था ।  इसके अलावा दीपेश सावंत ने भी अपने बयान में ऋषिकेश का नाम लिया था और आरोप था कि वो ही सुशांत को ड्रग्स सप्लाई करते थे ।  असल में , पवार की ओर से इससे पहले मुंबई की एक अदालत में याचिका दायर की गई थी और अग्रिम जमानत की अपील की गई थी । इसके बाद बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की गई, लेकिन हाईकोर्ट ने वापस सेशंस कोर्ट जाने को कहा । अब बीते गुरुवार को ऋषिकेश पवार की याचिका खारिज हुई, जिसके बाद एनसीबी की टीम चेंबूर में उनके घर पहुंची लेकिन वो जबतक फरार हो गए थे ।  

Todays Beets: