Saturday, January 29, 2022

Breaking News

   बिहार: खान सर के समर्थन में उतरे पप्पू यादव, बोले- शिक्षकों पर केस दुर्भाग्यपूर्ण     ||   पंजाब: राहुल गांधी ने स्वर्ण मंदिर में माथा टेका, CM चन्नी और नवजोत सिंह सिद्धू भी साथ     ||   UP: मथुरा में बोले गृह मंत्री अमित शाह- माफिया पर कार्रवाई से अखिलेश को दर्द हुआ     ||   सीएम योगी का सपा पर तंज- जो लोग फ्री बिजली देने की बात कर रहे, उन्होंने UP को अंधेरे में रखा     ||   अरुणाचल प्रदेश से कई दिनों से लापता छात्र चीनी सेना को मिला, भारतीय सेना को दी गई जानकारी     ||   हैदराबाद: उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू कोरोना पॉजिटिव, एक हफ्ते तक आइसोलेशन में रहेंगे     ||   नेताजी की प्रतिमा का पीएम मोदी ने किया अनावरण, कहा- हमारे सामने नए भारत के निर्माण का लक्ष्य     ||   'यूपी में सबसे ज्यादा महिलाएं असुरक्षित हैं', अखिलेश यादव का बीजेपी पर अटैक     ||   दुख की बात है कि हमारे वीर जवानों के लिए जो अमर ज्योति जलती थी, उसे आज बुझा दिया जाएगा- राहुल गांधी     ||   चन्नी चमकौर साहिब से चुनाव हार रहे हैं, ED को गड्डी गिनता देख लोग सदमे में हैं- अरविंद केजरीवाल     ||

स्वामी प्रसाद मौर्य के सपा में जाने पर अभी संशय! , भाजपा मनाने में जुटी , 15 तक लेंगे अंतिम फैसला

अंग्वाल न्यूज डेस्क
स्वामी प्रसाद मौर्य के सपा में जाने पर अभी संशय! , भाजपा मनाने में जुटी , 15 तक लेंगे अंतिम फैसला

लखनऊ । उत्तर प्रदेश की योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य ने गत दिनों पार्टी की नीतियों के प्रति अपनी नाराजगी जताते हुए भाजपा से इस्तीफा दे दिया । इसके बाद उनकी फोटो सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ भी नजर आईं । ऐसे कयास लगाए जाने लगे कि स्वामी प्रसाद मौर्य इस बार समाजवादी पार्टी के टिकट से चुनाव लड़ेंगे , लेकिन सूत्रों का कहना है कि अभी इस बात पर मुहर नहीं लगी है कि मौर्य सपा की ''साइकिल'' पर सवाल होंगे या नहीं । अभी उनके सपा में शामिल होने पर संशय बरकरार है । खुद मौर्य ने सपा में शामिल होने का कोई ऐलान नहीं किया है । वहीं उनकी बेटी ने साफ कर दिया है कि उन्होंने सपा ज्वाइन नहीं की है । इन सभी खबरों के बीच भाजपा का मौर्या का मनाने की मशक्कत जारी है । ऐसा भी संभव है कि उनकी भाजपा से नाराजगी दूर हो जाए और वो दोबारा भाजपाई ही रहें । 

विदित हो कि योगी सरकार के कैबिनेट मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य के पार्टी से इस्तीफा देने के बाद उनके समर्थक विधायकों ने भी भाजपा छोड़ दी है । हालांकि उनकी आगामी रणनीतियों को लेकर सबके अलग अलग बयान हैं । इन विधायकों का कहना है कि मौर्य हमारे नेता हैं , वह जो फैसला लेंगे हमें वह स्वीकार होगा । 

हालांकि मौर्य की बेटी संघमित्रा मौर्य ने हालिया घटनाक्रम पर साफ कर दिया है कि उनके पिता ने कैबिनेट से इस्तीफा जरूर दिया है , लेकिन समाजवादी पार्टी ज्वाइन करने की बातें निराधार हैं । उन्होंने साफ किया कि मैं भारतीय जनता पार्टी के साथ थी और रहूंगी । अखिलेश यादव के साथ उनके पिता की फोटो जारी होने पर उन्होंने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान भी कुछ ऐसी ही तस्वीरें समाजवादी पार्टी की ओर से जारी की गई थी , लेकिन इसमें अभी तक सच्चाई नहीं है । 


हालांकि अखिलेश यादव ने ट्वीट करते हुए लिखा था कि सामाजिक न्याय और समता समानता की लड़ाई लड़ने वाले लोकप्रिय नेता श्री स्वामी प्रसाद मौर्य समेत उनके साथ आने वाले सभी नेताओं - कार्यकर्ताओं और समर्थकों का सपा में ससम्मान अभिनंदन हैं। इसके बाद इन बातों के कयास लगाए जा रहे थे कि मौर्य ने सपा ज्वाइन कर ली है , लेकिन संशय के बादल अभी छाए हुए हैं । 

खुद स्वामी प्रसाद मौर्य ने इस मुद्दे पर कुछ नहीं कहा है । हालांकि उन्हें मनाने की जिम्मेदारी पाने वाले उपमुख्यमंत्री कैशव प्रसाद मौर्य ने पूरे घटनाक्रम पर ट्वीट किया कि स्वामी प्रसाद मौर्य ने आखिर किन कारणों से भाजपा छोड़ी , मैं उन कारणों को नहीं जानता , लेकिन उनके अपील करता हूं कि वह आएं बैठकर बात करें , जल्दबाजी में लिए गए कई फैसले अमूमन गलत साबित होते हैं । 

हालांकि कैबिनेट से इस्तीफा देने के बाद मौर्य ने भाजपा पर जो आरोप लगाए हैं उसके बाद उनका भाजपा में टिके रहना भी आसान नहीं होगा । मौर्य ने पद से इस्तीफा देने के साथ ही भाजपा पर पिछड़ों और दलितों की उपेक्षा करने के आरोप लगाए थे । अपनी आगामी रणनीति का ऐलान करने के लिए उन्होंने कहा था कि वह 14-15 तारीख को इस पर फैसला लेंगे । उन्होंने कहा, 'उत्तर प्रदेश की राजनीति स्वामी प्रसाद मौर्य के चारों तरफ घूमती है । जिन नेताओं को घमंड था कि वो बहुत बड़े तोप हैं उस तोप को मैं 2022 के चुनाव में ऐसा दागूंगा कि उस तोप से भाजपा के नेता ही स्वाहा हो जाएंगे । 

Todays Beets: