Monday, October 26, 2020

Breaking News

   कानपुर: विकास दुबे और उसके गुर्गों समेत 200 लोगों की असलहा लाइसेंस फाइल हुई गायब     ||   हाथरस कांड: यूपी सरकार ने SC में पीड़िता के परिवार की सुरक्षा पर दाखिल किया हलफनामा     ||   लखनऊ: आत्मदाह की कोशिश मामले में पूर्व राज्यपाल के बेटे को हिरासत में लिया गया     ||   मानहानि केस: पायल घोष ने ऋचा चड्ढा से बिना शर्त माफी मांगी     ||   लक्ष्मी विलास होटल केस: पूर्व केंद्रीय मंत्री अरुण शौरी हुए सीबीआई कोर्ट में पेश     ||   पश्चिम बंगाल: CM ममता बनर्जी ने अलापन बंद्योपाध्याय को बनाया मुख्य सचिव     ||   काशी विश्वनाथ मंदिर और ज्ञानवापी मस्जिद मामले में 3 अक्टूबर को होगी अगली सुनवाई     ||   इस्तीफे पर बोलीं हरसिमरत कौर- मुझे कुछ हासिल नहीं हुआ, लेकिन किसानों के मुद्दों को एक मंच मिल गया     ||   ईडी के अनुरोध के बाद चेतन और नितिन संदेसरा भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित     ||   रक्षा अधिग्रहण परिषद ने विभिन्न हथियारों और उपकरणों के लिए 2290 करोड़ रुपये की मंजूरी दी     ||

अमेरिका ने H1B वीजा में की 30 फीसदी तक कटौती , भारतीय आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अमेरिका ने H1B वीजा में की 30 फीसदी तक कटौती , भारतीय आईटी प्रोफेशनल को बड़ा झटका

नई दिल्ली । अमेरिका में राष्ट्रपति चुनावों का समय नजदीक आता जा रहा है । राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप भी कोरोना से ठीक होकर एक बार फिर से चुनावी मैदान में उतर गए हैं । इस सबके बीच पिछले दिनों एक सर्वे सामने आया , जिसमें कहा गया कि अभी तक की हवा के अनुसार , ट्रंप अपने प्रतिद्वंदी जो बिडेन से 10 अंक पीछे चल रहे हैं । इन खबरों के बाद अब ट्रंप प्रशासन के एक फैसले ने भारतीयों को झटका दिया है । खबर है कि ट्रंप की सरकार अमेरिका आकर नौकरी करने वालों पर सख्ती के लिए वीजा नियमों में बदलाव की तैयारी शुरू कर दी है ।  मंगलवार को विदेशों से कुशल श्रमिकों को जारी वीजा (Visa) के प्रोसेस को लिमिट करने की योजना बनाई है । अफसरों का कहना है कि इस योजना को प्राथमिकता देने की वजह कोरोनो काल के कारण बढ़ती बेरोजगारी है । 

शाहीन बाग केस में SC ने कहा- विरोध प्रदर्शन का अधिकार लेकिन अंग्रेजों के राज वाली हरकतें अब करना सही नहीं

बता दें कि राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने गत जुलाई माह में एच -1 बी कार्यक्रम को अस्थायी रूप से निलंबित करते हुए वर्ष के अंत तक एक आदेश जारी किया था । ट्रंप प्रशासन के लोगों का कहना था कि अमेरिकी कंपनियां H1B वीजा के माध्यम से बड़ी संख्या में लोगों को विदेशों से नौकरी पर रख लेती हैं ,  जिससे अमेरिका में रहने वालों को नौकरी नहीं मिल पाती । 

ED ने हाथरस कांड में किया खुलासा - यूपी में दंगा भड़काने के लिए मॉरिशस से PFI को हुई 100 करोड़ की फंडिंग 


इस पूरे घटनाक्रम पर होमलैंड सिक्योरिटी डिपार्टमेंट और श्रम अधिकारियों के विभाग ने कहा कि  एच -1 बी वीजा प्राप्त करने वाले नए नियम क्या हैं और उन्हें कितना भुगतान किया जाना चाहिए, इसके लिए जल्द ही एच -1 बी वीजा (H-1 B Visa) कार्यक्रम रखा जाएगा । इस पूरे मामले को लेकर संबंधित अधिकारी का कहना है कि इस फैसले के लागू होने के बाद से लगभग एक तिहाई एच -1 बी आवेदकों को नए नियमों के तहत वंचित रखा जाएगा । 

रिया चक्रवर्ती को बांबे हाईकोर्ट से सशर्त जमानत मिली , शोविक की याचिका फिर खारिज

ट्रंप प्रशासन के इस फैसले का सीधा असर उन भारतियों पर पड़ेगा , जो वहां जाने की योजना बना रहे थे । 

 

Todays Beets: