Thursday, December 1, 2022

Breaking News

   सुकेश चंद्रशेखर विवाद के बीच तिहाड़ जेल से हटाए गए DG संदीप गोयल, संजय बेनीवाल को मिली कमान     ||   MHA ने NIA के 2 नए विंग को दी मंजूरी, 142 जांच अधिकारी-कर्मचारी बढ़ाए     ||   पाकिस्तान को बाढ़ से निपटने के लिए 10 अरब डॉलर की जरूरत, मंत्री का बयान     ||   सुप्रीम कोर्ट ने 1992 बाबरी मस्जिद विध्वंस से जुड़े सभी मामलो को बंद किया     ||   मनीष के घर-लॉकर से कुछ नहीं मिला, ईमानदार साबित हुए: CM केजरीवाल     ||   दिल्ली: JP नड्डा को बताना चाहता हूं, बच्चा चुराने लगी है BJP- मनीष सिसोदिया     ||   टेस्ला के मालिक एलन मस्क को कोर्ट में घसीटने की तैयारी, ट्विटर संग होगी कानूनी जंग    ||   गोवा में कांग्रेस पर सियासी संकट! सोनिया ने खुद संभाला मोर्चा    ||   जयललिता की पार्टी में वर्चस्व की जंग हारे पनीरसेल्वम, हंगामे के बीच पलानीस्वामी बने अंतरिम महासचिव     ||   देशभर में मानसून एक्टिव हो गया है और ज्यादातर राज्यों में जोरदार बारिश हो रही है. भारी बारिश ने देश के बड़े हिस्से में तबाही मचाई है    ||

UN चीफ एंटोनियो की भारत सरकार को नसीहत , कहा - अल्पसंख्यकों की रक्षा करना आपकी जिम्मेदारी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
UN चीफ एंटोनियो की भारत सरकार को नसीहत , कहा - अल्पसंख्यकों की रक्षा करना आपकी जिम्मेदारी

नई दिल्ली । संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस (Antonio Guterres) ने मानवाधिकार रिकॉर्ड को लेकर भारत की आलोचना की है । संयुक्त राष्ट्र प्रमुख (UN Chief) ने गुरुवार को अपनी यात्रा के दौरान आईआईटी-बॉम्बे (IIT Bombay) में एक सभा को संबोधित किया । इस दौरान उन्होंने कहा कि भारत के लोगों और सरकार को चाहिए कि वह राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के मूल्यों का अभ्यास करते रहे , ताकि समृद्ध विविधता वाले देश में सभी वर्गों के अधिकारों की रक्षा करके इसे मजबूत बनाया जा सके । वह बोले कि वैश्विक मंच पर भारत की आवाज समावेशिता और मानवाधिकारों के सम्मान के लिए मजबूत प्रतिबद्धता से ही अधिकार और विश्वसनीयता हासिल कर सकती है । इस दौरान उन्होंने भारत सरकार को नसीहत देते हुए कहा कि अल्पसंख्यकों की रक्षा करना सरकार की जिम्मेदारी है । 

आईआईटी-बॉम्बे (IIT Bombay) में एक सभा को संबोधित करते हुए गुटेरेस ने कहा - मानवाधिकार परिषद के एक निर्वाचित सदस्य के रूप में भारत पर वैश्विक मानवाधिकारों को आकार देने और अल्पसंख्यक समुदायों के सदस्यों सहित सभी व्यक्तियों के अधिकारों की रक्षा करने की जिम्मेदारी है । भारत के अहिंसक स्वतंत्रता आंदोलन की सराहना करते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने भारतीयों को "गांधी के मूल्यों" का अभ्यास करने और "सभी लोगों की गरिमा - विशेष रूप से सबसे कमजोर" को सुरक्षित और बनाए रखने के लिए प्रभावित किया ।  

वह बोले - बहुसांस्कृतिक, बहु-धार्मिक और बहु-जातीय समाजों के विशाल मूल्य और योगदान को पहचानते हुए समावेश के लिए ठोस कार्रवाई" की आवश्यकता पर भी बल दिया । संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि "अभद्र भाषा की स्पष्ट रूप से निंदा करके और पत्रकारों, मानवाधिकार कार्यकर्ताओं, छात्रों और शिक्षाविदों के अधिकारों और स्वतंत्रता की रक्षा करके" भारत को विविधता का पोषण करना चाहिए । 


उन्होंने कहा - मैं भारतीयों से सतर्क रहने और समावेशी, बहुलवादी, विविध समुदायों और समाजों में अपने निवेश को बढ़ाने का आग्रह करता हूं । भारत में, दुनिया भर में, लैंगिक समानता और महिलाओं के अधिकार को आगे बढ़ाने के लिए बहुत कुछ करने की आवश्यकता है ।  यह एक नैतिक अनिवार्यता है और यह समृद्धि और स्थिरता के लिए एक गुणक भी है । कोई भी समाज महिलाओं, पुरुषों, लड़कियों और लड़कों के लिए समान अधिकारों और स्वतंत्रता के बिना अपनी पूरी क्षमता तक नहीं पहुंच सकता है । 

 

Todays Beets: