Wednesday, August 5, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

बसपा सुप्रीमो मायावती बोली - हम अशोक गहलोत को सबक सिखाने का इंतजार कर रहे हैं, जरूरी पड़ी तो SC जाएंगे  

अंग्वाल न्यूज डेस्क
बसपा सुप्रीमो मायावती बोली - हम अशोक गहलोत को सबक सिखाने का इंतजार कर रहे हैं, जरूरी पड़ी तो SC जाएंगे  

नई दिल्ली । राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार पर मंडराते संकट के बादल जैसे ही थोड़े छटते हैं , कुछ नया ऐसा हो जाता है कि फिर से काले घने बादल सरकार के ऊपर मंडराने लगते हैं । राजस्थान में बसपा के 6 विधायकों द्वारा कांग्रेस में विलय के मुद्दे पर अब बसपा सुप्रीमो मायावती गुस्सा हैं। उन्होंने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस की ओर से कानून का उल्लंघन कर हमारे विधायकों को अपनी ओर किया गया, हम इस मामले को सुप्रीम कोर्ट तक ले जाएंगे । मायावती ने कहा कि अगर जरूरत पड़ती है तो वो ये मामला सुप्रीम कोर्ट तक ले जाएंगे, हम गहलोत को सही मौके पर सबक सिखाने का इंतजार कर रहे थे । वहीं बसपा विधायकों के कांग्रेस में विलय के खिलाफ दायर याचिका खारिज होने के बाद एक बार फिर से एक नई याचिका कोर्ट में दाखिल की गई है ।

मौजूदा घटनाक्रम पर , मायावती ने कहा कि दुख की बात है कि गहलोत ने अपने मुख्यमंत्री बनने के बाद अपनी बदनियत से BSP को राजस्थान में गंभीर नुकसान पहुंचाने के लिए हमारे 6 MLAs को असंवैधानिक तरीक से कांग्रेस में विलय करने की गैर कानूनी कार्यवाही की है । यही गलत काम उन्होंने पिछले कार्यकाल में भी किया था । कांग्रेस का ये कार्य संविधान की 10वीं अनुसूचि के खिलाफ है इसलिए BSP के द्वारा 6 विधायकों को व्हिप जारी कर निर्देशित किया गया है कि ये सदन में कांग्रेस के खिलाफ ही मत डालेंगे ।  बसपा ने ये निर्णय कांग्रेस के द्वारा बार-बार धोखा दिए जाने के कारण ही लिया है । 

उन्होंने गहलोत पर तंज कसते हुए कहा कि इस कारण से इनकी (कांग्रेस) अब सरकार रहती है या नहीं रहती है इसका दोष अब पूर्ण रूप से कांग्रेस और उनके मुख्यमंत्री गहलोत का ही होगा । 


बता दें कि राजस्थान में बसपा विधायकों के विलय का मसला हाईकोर्ट भी पहुंचा था, जहां पर भाजपा विधायक ने एक याचिका लगाई थी और बसपा भी उसमें पार्टी बन गई थी । हालांकि, अदालत ने ये याचिका खारिज कर दी । इस सबके बाद अब मंगलवार को एक नई याचिका दायर की गई है। 

विदित हो कि पिछले दिनों बसपा ने अपने विधायकों को व्हिप जारी कर कांग्रेस के खिलाफ वोट डालने को कहा था, हालांकि विधायकों का कहना है कि अब वो कांग्रेस के सदस्य हैं और अशोक गहलोत के साथ ही रहेंगे । लेकिन नई याचिका दायर होने और बसपा सुप्रीमो के खुलकर गहलोत के विरोध में खड़े होने से राज्य की राजनीति में फिर से सुगबुगाहट तेज हो गई है । 

 

Todays Beets: