Thursday, June 27, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

Breaking News - लंदन कोर्ट से विजय माल्य का बड़ा झटका , प्रत्यार्पण के खिलाफ याचिका खारिज

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Breaking News - लंदन कोर्ट से विजय माल्य का बड़ा झटका , प्रत्यार्पण के खिलाफ याचिका खारिज

नई दिल्ली । भारतीय बैंकों के करीब 9 हजार करोड़ रुपये का कर्ज चुकाए बिना विदेश भागने वाले विजय माल्या को सोमवार लंदन की कोर्ट से बड़ा झटका लगा है । सरकार द्वारा उसे भारत लाने की कोशिशों के बीच माल्या ने लंदन कोर्ट में प्रत्यार्पण के खिलाफ एक याचिका दाखिल की थी, जिसे लंदन की कोर्ट ने खारिज कर दिया है। लंदन कोर्ट के इस फैसले के बाद अब माल्या को भारत सरकार द्वारा भारत लाने का रास्ते में ज्यादा अड़चने नहीं दिख रही हैं।बता दें कि बैंकों के 9000 करोड़ डकारकर विदेश भागने वाले विजय माल्या पर अब भारत सरकार का शिकंजा कसता जा रहा है । प्रत्यर्पण केस में सोमवार को लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट भगोड़े शराब कारोबारी विजय माल्या के भारत भेजने पर बड़ा फैसला लेते हुए माल्या की प्रत्यार्पण के खिलाफ दायर की गई याचिका को खारिज कर दिया है । माल्या सीबीआई लुकआउट नोटिस आते ही 2016 में ही भारत छोड़ कर भाग गया था।

असल में  पिछले साल 4 दिसंबर को माल्या को भारत लाने के लिए भारत सरकार ने लंदन की कोर्ट में अर्जी लगाई थी। इसके खिलाफ माल्या की ओर से भी एक अर्जी दायर की गई थी, जिसे लंदन की वेस्टमिंस्टर कोर्ट ने खारिज कर दिया है।


असल में भगोड़े कारोबारी विजय माल्या का कहना है कि अब उसके पास गुजर-बसर करने के लिए पैसे नहीं हैं। माल्या का कहना है कि वह अपनी पार्टनर, पर्सनल असिस्टेंट, परिचित कारोबारियों और बच्चों पर निर्भर है। विजय माल्या ने यह बात 13 बैंकों द्वारा उसके खिलाफ दर्ज की गई बैंकरप्टसी याचिका के जवाब में कही थी। याचिका के जवाब में माल्या ने कहा कि उसकी व्यक्तिगत संपत्ति मात्र 2956 करोड़ रुपये रह गई है और उसने यह पूरी संपत्ति बैंकों से सेटलमेंट के लिए कर्नाटक हाई कोर्ट के सामने पेश कर दी है। बैंकों ने माल्या द्वारा दी गई इस जानकारी को यूके कोर्ट से साझा किया है।

 

Todays Beets: