Saturday, September 26, 2020

Breaking News

   कप्तान धोनी ने IPL2020 की शुरुआत जीत से की,जानिये कैसे ?     ||   लखनऊ: यूपी में आकाशीय बिजली से हुई मौत के मामले में परिजनों को 4 लाख मुआवजा     ||   कोरोना काल में भाजपा सरकार ने अनेक ख्याली पुलाव पकाए, लेकिन एक सच भी था? -राहुल गांधी     ||   पिछले 6 महीने में भारत-चीन सीमा पर कोई घुसपैठ नहीं: राज्यसभा में गृह मंत्रालय का बयान     ||   राजस्थान: बूंदी में चंबल नदी में नाव डूबने से 6 लोगों की मौत, 12 लोगों को रेस्क्यू किया गया     ||   मुंबई: बच्चन परिवार को अतिरिक्त सुरक्षा मुहैया कराएगी मुंबई पुलिस     ||   राज्यसभा में BJP MP विनय सहस्रबुद्धे का बयान, महाराष्ट्र सरकार ही अवैध निर्माण का प्रतीक     ||   ग्रीनलैंड में सबसे बड़ा ग्लेशियर टूटा, चंडीगढ़ के बराबर बर्फ की चट्टान समुद्र में     ||   किसान बिल के विरोध पर बोले नड्डा- कांग्रेस पहले समर्थन में थी, अब राजनीति कर रही     ||   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||

चीन से निपटने के लिए सर्वदलीय बैठक थोड़ी देर में , ठाकरे बोले - चीनी निवेश पर बने राष्ट्रीय नीति

अंग्वाल न्यूज डेस्क
चीन से निपटने के लिए सर्वदलीय बैठक थोड़ी देर में , ठाकरे बोले - चीनी निवेश पर बने राष्ट्रीय नीति

नई दिल्ली। चीन के साथ जारी गतिरोध के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार आज एक सर्वदलीय बैठक करने जा रही है । इस बैठक में चीन से निपटने के मुद्दों पर मंथन होगा । इस बैठक में कुल 17 राजनीतिक दलों के नेता हिस्सा लेंगे । वहीं इस बैठक से पहले शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने मांग की है कि केंद्र सरकार को एक नीति बनानी चाहिए, जिसमें चीनी कंपनियों के द्वारा भारत में किए जा रहे निवेश, भारत के प्रोजेक्ट्स में निवेश को लेकर कुछ नियम और नीति तय की जाए ।

बता दें कि तिब्बत में सीमा विवाद के बीच चीनी जवानों ने धोखे से भारतीय जवानों पर हमला कर दिया था । इस हिंसा में जहां 20 भारतीय जवान शहीद हुए , वहीं भारतीय जवानों ने भी पलटवार करते हुए चीन के करीब 45 जवानों को मार गिराया । इस खबर के बाद से देश में चीन विरोधी लहर दौड़ रही है । जहां कई जगहों पर चीन के पूर्णरूप से बहिष्कार की मांग उठ रही है , वहीं व्यापारी वर्ग समेत कई संगठनों ने इस बार चीनी सामान को जलाकर अपने विरोध दर्ज करवाया है । 

इसी क्रम में अब सरकार भी चीन से निपटने के लिए रणनीति बनाती नजर आ रही है । इसी क्रम में शुक्रवार को मोदी सरकार एक सर्वदलीय बैठक करने जा रही है , जिसमें 17 दलों के नेता शिरकत करेंगे , जिनमें  सोनिया गांधी, मायावती, शरद पवार, नीतीश कुमार, उद्धव ठाकरे, अखिलेश यादव समेत कई अन्य दिग्गज नेता वर्चुअल तौर पर बैठक में  हिस्सा लेंगे ।


वहीं इस में महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे इस बैठक में चीनी निवेश के मसले पर एक राष्ट्रीय नीति बनाने की मांग रख सकते हैं । खबर है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ बैठक में इस मसले को उठाएंगे ।  इसमें चीनी निवेश पर राष्ट्रीय नीति के साथ प्रोजेक्ट्स को लेकर भी नीति की मांग कर सकते हैं । 

हालांकि इससे पहले भारतीय रेलवे ने सख्त कदम उठाते हुए चीनी कंपनी को दिए गए एक कॉन्ट्रैक्ट को रद्द कर दिया है । यह कंपनी पिछले चार साल से सिग्नल लगाने का काम कर रही थी , लेकिन उनकी सुस्त रफ्तार को देखते हुए रेलवे ने उनका ठेका रद्द कर दिया है । इसी क्रम में सरकार ने बीएसएनल-एमटीएनएल समेत अन्य टेलिकॉम कंपनियों से कहा है कि वह चीनी सामान पर अपनी निर्भरता को कम करें ।  

Todays Beets: