Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

अयोध्या मसले पर मुस्लिम पक्षकार का दावा, कहा-फैसला जब भी आए, हमारे पक्ष में ही होगा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अयोध्या मसले पर मुस्लिम पक्षकार का दावा, कहा-फैसला जब भी आए, हमारे पक्ष में ही होगा

नई दिल्ली। अयोध्या में राम जन्मभूमि विवाद पर गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई अब 29 जनवरी तक टल गई। मुस्लिम पक्षकार के वकील ने मौजूदा 5 जजों की बेंच में शामिल जस्टिस यूयू ललित के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह के वकील के तौर पर पेश होने का हवाला दिया। इसके बाद उन्होंने खुद को इस मामले की सुनवाई से अलग कर लिया। अब नई बेंच का गठन होगा और वह इस मामले की सुनवाई शुरू करेगी। यहां गौर करने वाली बात है कि मुस्लिम पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि उन्हें पूरी उम्मीद है कि फैसला उनके पक्ष में ही आएगा।

गौरतलब है कि बाबरी के पक्षकार इकबाल अंसारी ने कहा कि कोर्ट पर हमारा कोई दबाव नहीं है। जो भी निर्णय होगा उसे सबको मानना पड़ेगा। इकबाल अंसारी ने कहा कि सारे सबूत कोर्ट के सामने पेश कर दिए गए हैं और उन्हें पूरा भरोसा है कि सुप्रीम कोर्ट उनके पक्ष में ही फैसला देगा। 

ये भी पढ़ें - सामान्य आरक्षण बिल के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में दायर हुई याचिका, निरस्त करने की मांग


यहां बता दें कि इकबाल अंसारी ने कहा कि हम हिंदू-मुसलमान की बात नहीं करते हम समाजवादी हैं। उन्होंने कहा कि कोर्ट सुबूतों के आधार पर निर्णय देती है, भावनाओं के आधार पर नहीं चलता है। इकबाल का कहना है कि जिसका  सुबूत मजबूत होंगे कोर्ट का निर्णय उसी के पक्ष में आएगा। 

 

Todays Beets: