Saturday, August 8, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

अब फोन करके गहलोत ने पीएम मोदी को बताया राज्यपाल का बर्ताव , पहले चिट्ठी लिख जताई थी नाराजगी

अंग्वाल न्यूज डेस्क
अब फोन करके गहलोत ने पीएम मोदी को बताया राज्यपाल का बर्ताव , पहले चिट्ठी लिख जताई थी नाराजगी

जयपुर । राजस्थान में जारी सियासी घमासान के बीच राज्य के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राज्यपाल कलराज मिश्र को लेकर बातचीत की है । खुद सीएम गहलोत ने इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मैंने कल पीएम मोदी को फोन करके उन्हें सुबे के राज्यपाल कलराज मिश्र के पिछले दिनों हमारी सरकार को लेकर किए गए बर्ताव के बारे में जानकारी दी । इतना ही नहीं उन्होंने बताया कि उन्होंने पीएम मोदी को पिछले दिनों लिखे एक खत के बारे में भी बताया। इस पूरे घटनाक्रम के बीच विधानसभा के सत्र को बुलाए जाने को लेकर राज्यपाल मिश्र और गहलोत के बीच गतिरोध बरकरार है ।

बता दें कि राजस्थान में कांग्रेस के बागी विधायकों के नेतृत्व परिवर्तन की मांग पर जहां कांग्रेस के आलाकमान कोई फैसला नहीं लेते दिख रहे , वहीं सीएम अशोक गहलोत ने पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट समेत भाजपा पर गंभीर आरोप लगाए हैं । इसी क्रम में सरकार पर मंडरा रहा खतरा बदस्तूर बरकरार है । बसपा द्वारा अपने विधायकों को कांग्रेस के विरोध में खड़े होने का व्हिप जारी होने के साथ ही कांग्रेस के लिए परेशानियां और बढ़ गई हैं । इस सबके बीच अशोक गहलोत को पार्टी आलाकमान ने साफ निर्देश दे दिए हैं कि वह इस मामले को ज्यादा लंबा न खींचे और जल्द इसे सुलझाएं,  जिसके चलते वह खुद इस मामले को सुलझाने में जुटे हुए हैं ।

सीएम गहलोत और उनके नेता भाजपा पर साजिश के तहत कांग्रेसी विधायकों को बंधक बनाए रखने और सरकार गिराने के आरोप लगा रहे हैं , लेकिन इस सबके बीच गहलोत  ने पीएम नरेंद्र मोदी को फोन करके उन्हें राज्यपाल कलराज मिश्र के बर्ताव की जानकारी दी है । असल में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत विधानसभा का सत्र बुलाना चाहते हैं, लेकिन राज्यपाल कलराज मिश्र ने इजाजत नहीं दी है । इसे लेकर सीएम गहलोत और कांग्रेस विधायकों ने राजभवन में धरना प्रदर्शन भी किया था । बावजूद इसके राज्यपाल ने सत्र बुलाने की अनुमति नहीं दी ।


इसके बाद सीएम अशोक गहलोत ने कैबिनेट बैठक बुलाकर 31 जुलाई को विधानसभा का सत्र बुलाने का प्रस्ताव राज्यपाल कलराज मिश्र को भेजा । गहलोत सरकार ने कहा कि उन्हें कोरोना के मद्देनजर 6 बिल को पास कराना है । इस प्रस्ताव को भी कलराज मिश्र ने ठुकरा दिया है और सरकार से कुछ सवाल पूछे हैं ।

बहरहाल, इस मामले में अभी भी गहलोत सरकार पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं , अगर बसपा के विधायक कांग्रेस का हाथ छोड़ते हैं तो गहलोत के लिए आने वाला समय और परेशानी भरा हो सकता है । 

 

Todays Beets: