Friday, July 19, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

कृष्णानन्द राय हत्याकांड - CBI कोर्ट ने मुख्तार अंसारी समेत सभी आरोपियों को बरी किया

अंग्वाल न्यूज डेस्क
कृष्णानन्द राय हत्याकांड - CBI कोर्ट ने मुख्तार अंसारी समेत सभी आरोपियों को बरी किया

नई दिल्ली । देश के बहुचर्चित पूर्व विधायक कृष्णानन्द राय हत्या मामले में बुधवार को CBI कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया । कोर्ट ने इस हत्याकांड में आरोपी बनाए गए मुख्तार अंसारी समेत सभी आरोपियों को बरी किया है । मुख्तार अंसारी के अलावा बाकी आरोपियों में उनके भाई अफजाल अंसारी, संजीव माहेश्वरी, एजाजुल हक , राकेश पांडेय, रामु मल्लाह, मंसूर अंसारी और मुन्ना बजरंगी शामिल थे । हालांकि इसमें से मुन्ना बजरंगी की पिछले साल बागपत जेल में गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। बाकी आरोपियों को कोर्ट के फैसले के बाद बरी कर दिया गया है ।

गृहमंत्रालय का ऐलान - देशद्रोह कानून नहीं होगा खत्म , आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में है अहम

बता दें कि 29 नवम्बर 2005 को करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र गोडउर गांव निवासी भाजपा विधायक कृष्णानंद राय क्षेत्र के सोनाड़ी गांव में क्रिकेट मैच का उद्घाटन करने के बाद वापस अपने गांव लौट रहे थे। शाम करीब चार बजे बसनियां चट्टी पर उनके काफिले को घेरकर ताबड़तोड़ फायरिंग हुई थी। एके-47 से गोलियों की बौछार कर विधायक समेत सात लोगों को मौत के घाट उतार दिया गया था। ऐसा आरोप था कि अंसारी ने हमले के दौरान करीब 5 सौ से अधिक गोलियों का प्रयोग किया गया था।


अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले अंग्रेजी के साथ हिंदी में भी होंगे उपलब्ध , 6 क्षेत्रिय भाषाओं में पढ़ सकेंगे फैसले

इस मामले में विधायक मुख्तार अंसारी, जिले के सांसद रहे अफजाल अंसारी समेत और मुन्ना बजरंगी के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था। घटना के कई वर्षों तक मुन्ना बजरंगी नहीं पकड़ा गया तो उसके ऊपर सात लाख रुपये का इनाम घोषित हो गया। विवेचना के दौरान मुन्ना बजरंगी के कई शूटरों का नाम प्रकाश में आया। जिसमें फिरदौस समेत जिवा व अन्य शुटरों को शामिल किया गया। जिले में पहली बार मुन्ना बजरंगी ने इतनी बड़ी घटना को अंजाम दिया था। वह भी मुख्तार गैंग से जुड़ने के बाद सुर्खियों में आया।

राहुल गांधी ने दिया कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफा , मोती लाल वोरा बनाए जा सकते हैं अंतरिम अध्यक्ष

Todays Beets: