Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

लद्दाख में ‘ड्रैगन’ ने फिर से की घुसपैठ, 400 मीटर अंदर आकर गाड़ दिए 5 टेंट

अंग्वाल न्यूज डेस्क
लद्दाख में ‘ड्रैगन’ ने फिर से की घुसपैठ, 400 मीटर अंदर आकर गाड़ दिए 5 टेंट

नई दिल्ली। नियंत्रण रेखा पर ‘ड्रैगन’ अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। भारत और चीन के बीच करीब 4057 किलोमीटर की लंबी नियंत्रण रेखा पर चीनी सेना के द्वारा अक्सर ही ऐसे कारनामों को अंजाम दिया जाता रहा है जो भारतीय सेना को उकसाने का काम करता है। चीनी सेना द्वारा लद्दाख के डेमचोक इलाके में 300 से 400 मीटर तक अंदर आ गए और वहां अपने 5 टेंट लगा दिए। भारतीय सैनिकों के विरोध जताने के बाद भी उन्होंने अपने टेंट नहीं हटाए लेकिन जब ब्रिगेडियर स्तर की बातचीत का दवाब डाला गया तो 3 टेंट हटा लिए गए।

गौरतलब है कि चीनी सेना कुछ समय पहले गड़ेरियों के वेश में भारतीय सीमा के अंदर घुस आए थे और भारत के विरोध के बावजूद वे वहां से नहीं हटे। इसके बाद भारतीय सैनिकों ने सीमा पर बैनर मार्च किया। यहां गौर करने वाली बात है कि डोकलाम विवाद के बाद दोनों देशों ने सीमा पर से अपने सैनिकों की संख्या कम करने पर सहमत हो गए थे। भारत ने तो संख्या कम कर दी लेकिन चीन ने ऐसा नहीं किया। 


ये भी पढ़ें - मुख्य सचिव मारपीट मामले में दिल्ली पुलिस ने सीएम पर कसा शिकंजा, अपनों की गवाही ने बढ़ाई केजरीव...

बताया जा रहा है कि लद्दाख प्रशासन की ओर से वहां सड़क का निर्माण किया  जा रहा है जिसका चीन विरोध कर रहा है। बता दें कि डेमचोक उन विवादित जगहों में से एक है जिसकी सीमा अरुणाचल प्रदेश तक फैली है। अनसुलझी सीमा अनसुलझी सीमा को लेकर अलग-अलग धारणाओं के कारण इस सेक्टर में अकसर दोनों देशों की सेनाओं के बीच गतिरोध होता रहता है। दोनों एक दूसरे पर अपने क्षेत्र में अतिक्रमण करने का आरोप लगाती रहती हैं। लद्दाख में दूसरे विवादित क्षेत्रों में ट्रिग हाईट्स, डमचेले, चुमार, स्पैन्गुर गैप और पैन्गॉन्ग सो शामिल हैं। इस साल चीन सैनिकों द्वारा एलएसी पर 170 से ज्यादा बार घुसपैठ की कोशिश हुई है। 

Todays Beets: