Saturday, April 4, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

इटली में हनीमून मनाकर लौटी युवती आईसोलेशन सेंटर से भागी , कोरोना होने के बावजूद आगरा में परिजनों संग मिली

अंग्वाल न्यूज डेस्क
इटली में हनीमून मनाकर लौटी युवती आईसोलेशन सेंटर से भागी , कोरोना होने के बावजूद आगरा में परिजनों संग मिली

आगरा । इटली से हनीमून मनाकर वापस भारत के बेंगलुरु लौटी एक युवती का पति जांच में कोरोना वायरस से ग्रसित पाया गया ।  ऐसे में उसे भी कुछ समय से लिए आइसोलेशन सेंटर में रखा गया । लेकिन वह घबराकर आइसोलेशन सेंटर से भाग निकली । गत 8 मार्च को वह बेंगलुरु से फ्लाइट पकड़ने के बाद दिल्ली और वहां से ट्रेन पकड़कर अपने मायके आगरा जा पहुंची । आगरा के स्वास्थ्य विभाग को इस घटनाक्रम की जानकारी मिली तो वह हरकत में आई । आगरा के सीएमओ मुकेश कुमार वत्स की अगुवाई में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी महिला के घर पहुंचे तो पाया कि वह 8 सदस्यों के साथ रह रही है । अब जब उसका कोरोना टेस्ट किया गया जो पॉजिटिव आया है । 

बता दें कि महामारी बनकर उभरे इस कोरोना वायरस के चलते देश-दुनिया में अब तक पांच हजार लोगों की मौत हो गई है । संदिग्धों को दुनिया भर में आईसोलेशन सेंटर में रखा जा रहा है , जहां उनकी जांच की जा रही है । भारत पर भी इस संक्रामक वायरस का बहुत बुरा असर पड़ रहा है । केंद्र सरकार इसके लिए सरकार ने नागरिकों को अतिरिक्त सतर्कता बरतने और भीड़भाड़ वाल जगहों पर जानें से बचने के लिए कहा है । 

इस सब के बीच आगरा की एक युवती ने अपनी नासमझी के चलते बड़ा संकट खड़ा कर दिया है । बता दें कि फरवरी में ही इस युवती की शादी हुई और इसके बाद वे हनीमून पर इटली चले गए । वहां से वे दोनों ग्रीस और फ्रांस भी गए थे । दोनों 27 फरवरी को मुंबई आए थे और वहां से बेंगलुरु वहुंचे । गत 7 मार्च को महिला के पति का कोरोना वायरस टेस्ट पॉजिटिव निकला एतिहातन उसे भी जांच के लिए आईसोलेशन सेंटर में रखा गया , लेकिन यह वहां से भाग निकली और फ्लाइट पकड़कर दिल्ली और वहां से ट्रेन पकड़कर आगरा पहुंच गई । 


बाद में उसकी जांच की गई तो उसकी हिस्ट्री सामने आई , आगरा स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी दी गई । आगरा के सीएमओ मुकेश कुमार वत्स की अगुवाई में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी महिला के घर पहुंचे तो पाया कि वह 8 सदस्यों के साथ रह रही है। उसका कोरोना टेस्ट किया गया जो पॉजिटिव आया । इसके बाद उसके घर के सभी सदस्यों को आइसोलेशन में रखा गया । अब स्वास्थ्य विभाग महिला के ट्रैवल रूट को ट्रेस कर रहा है । स्वास्थ्य विभाग उन सभी लोगों की जांच करना चाहता है जो महिला के आसपास फ्लाइट या ट्रेन में मौजूद थे ताकि किसी को भी कोरोना संक्रमण की कोई भी आशंका खारिज की जा सके। 

हालांकि महिला की लापरवाही से बेंगलुरु और दिल्ली एयरपोर्ट प्रशासन पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं । सवाल उठ रहे हैं कि जब एयरपोर्ट पर स्क इसलिए है कि जब एयरपोर्ट्स पर हाल फिलहाल में विदेश यात्रा करने वाले सभी लोगों की स्क्रीनिंग हो रही है तो महिला उससे कैसे बच निकली? आखिर महिला की स्क्रीनिंग क्यों नहीं की गई या अगर स्क्रीनिंग हुई तो उसमें कोरोना वायरस के संक्रमण की पहचान क्यों नहीं हो सकी? 

Todays Beets: