Saturday, June 6, 2020

Breaking News

   उत्तराखंड: कोरोना के 46 नए मामले, कुल पॉजिटिव केस हुए 1199     ||   माले: ऑपरेशन समुद्र सेतु के तहत आईएनएस जलश्व से मालदीव में फंसे 700 भारतीय लाए जा रहे वापस     ||   बिहार: ADG लॉ एंड ऑर्डर ने जताई आशंका, प्रवासियों के आने से बढ़ सकता है अपराध     ||   दिल्ली: बीजेपी के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने संभाला अपना पदभार     ||   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||

LIVE - बार काउंसिल की घोषणा , हिंसा करने वाले वकीलों को हमने नोटिस भेजे, होगी कार्रवाई

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE - बार काउंसिल की घोषणा , हिंसा करने वाले वकीलों को हमने नोटिस भेजे, होगी कार्रवाई

नई दिल्ली । तीस हजारी कोर्ट के साथ ही साकेत और कड़कड़डूमा कोर्ट में पुलिस और वकीलों के साथ हुए गतिरोध के बाद अब जाकर बार काउंसिल का आधिकारिक बयान आया है । बार काउंसिल ऑफ इंडिया के अध्यक्ष मनन मिश्रा ने बुधवार को कहा कि बार काउंसिल ने उन वकीलों को नोटिस जारी किया है , जो इस हिंसा में शामिल रहे हैं । उन्होंने इस दौरान जोर देते हुए कहा कि मैं इस बात को दोहरा रहा हूं कि हम पुलिसकर्मियों को पीटने वाले और वाहनों में आग लगाने वाले आरोपी वकीलों के खिलाफ एक्शन लेने जा रहे हैं । वहीं उन्होंने दिल्ली पुलिस मुख्यालय पर जवानों के धरना प्रदर्शन को उन्होंने गैर कानूनी करार दिया । 

विदित हो कि दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट में पार्किंग के मामूली विवाद ने इतना हिंसक रूप धारण कर लिया था कि वकीलों और पुलिसकर्मियों के बीच गतिरोध मारपीट में बदल गया । इसके बाद वकीलों ने कोर्ट में मौजूद पुलिस के वाहनों को आग लगा दी । इतना ही नहीं कई पुलिसकर्मियों को भी जमकर पीटा । इसके वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद पुलिस और वकीलों के बीच गतिरोध बढ़ता गया । 


तीस हजारी कोर्ट में हिंसा होने के बाद साकेत कोर्ट के साथ कड़कड़डूमा कोर्ट में भी पुलिसकर्मियों को पीटे जाने के वीडियो सामने आए । इन वीडियो के आधार पर बार काउंसिल के अध्यक्ष मनन मिश्रा ने बुधवार को एक बयान जारी करते हुए कहा कि काउसिंल हिंसा में लिप्त रहने वाले वकीलों को नोटिस जारी कर चुकी है । इस मुद्दे पर आरोपी वकीलों के खिलाफ हम एक्शन लेंगे । हालांकि इस दौरान उन्होंने पुलिस के जवानों और अफसरों के प्रदर्शन को भी गैरकानूनी करार दिया । उन्होंने कहा कि प्रदर्शन के दौरान पुलिस के जवान वकीलों के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते रहे ।  

Todays Beets: