Thursday, July 18, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

Google सुन रहा है आपकी निजी बातें , कंपनी ने स्पीकार किया भाषा वैज्ञानिक का दावा , यूजर्स की गोपनियता पर उठे सवाल

अंग्वाल न्यूज डेस्क
Google सुन रहा है आपकी निजी बातें , कंपनी ने स्पीकार किया भाषा वैज्ञानिक का दावा , यूजर्स की गोपनियता पर उठे सवाल

नई दिल्ली । इन दिनों फोन कॉल के साथ ऐसे बहुत से टूल और एप आ गए हैं, जिसके जरिए आफ फ्री में किसी से भी बात कर सकते हैं । चाहे वह आपके शहर में हो दूसरे शहर में या दूसरे देश में । इस दौरान लोग आपस में कई तरह की बातें करते हैं , इसमें कुछ सामान्य बातें होती हैं तो कुछ लोग काफी निजी बातें भी करते हैं । लेकिन क्या आप यह जानते हैं कि आपकी इन सब बातों को गूगल भी सुन रहा है । इसका दावा हम नहीं कर रहे बल्कि खुद Google ने यह माना है कि कंपनी के कर्मचारी यूजर्स की Voice Recording को सुनकर उसकी समीक्षा करते हैं ताकि वॉयस रिकॉग्निशन को इंप्रूव किया जा सके । गूगल ने यह बात स्वीकार तब की है जब भाषा वैज्ञानिकों ने इन बातों का खुलासा किया था । वहीं गूगल के इस दावे के बाद यूजर्स की निजता और गोपनीयता पर गंभीर सवाल उठ रहे हैं ।

विदित हो कि गूगल वॉइस रिकॉग्नाइज टेक्नोलॉजी का यूज आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) सिस्टम से लैस Google Assistant पर करता है। इसका उपयोग गूगल के स्मार्ट स्पीकर और एंड्रॉइड स्मार्टफोन पर होता है। बता दें कि ये असिस्टेंट यूजर्स द्वारा दिए वॉइस कमांड को सुनता है और उन पर रिस्पॉन्स करता है । इसके बाद वह उपभोक्ता को संबंधित जानकारी मुहैया करवाता है । 

असल में बैल्जियम के भाषा वैज्ञानिकों ने यूजर्स द्वारा बनाई रिकॉर्डिंग के स्निपिट्स की जांच के बाद खुलासा किया है कि गूगल के कर्मचारी लोगों की बातें सुनते हैं । रिपोर्ट में कहा गया, “इन रिकॉर्डिग में हम पता और संवेदनशील जानकारी साफ सुन सकते हैं। सामने आया है कि इससे  बातचीत में शामिल लोगों की पहचान करना और ऑडियो रिकॉर्डिग से उसका मिलान करना आसान हो गया है। रिपोर्ट के अनुसार , बहुत से दंपतियों के बीच कहासुनी और बहस के साथ ही कुछ लोगों की निजी बातों की सुना जा रहा है । 


इस रिपोर्ट के बाद गूगल ने भी माना कि उनके कर्मचारी यूजर्स की बातें सुनते हैं । इतना ही नहीं गुगल ने तो यहां तक दावा किया है कि यूजर्स की रिकॉर्डिंग्स इसलिए सुनी जाती है ताकि वॉयस रिकॉग्निशन टेक्नॉलजी को बेहतर किया जा सके । 

 

Todays Beets: