Saturday, April 4, 2020

Breaking News

   भोपाल की बडी झील में पलटी आईपीएस अधिकारियों की नाव, कोई जनहानी नहीं    ||   सुरक्षा परिषद के मंच का दुरुपयोग करके कश्मीर मसले को उछालने की कोशिश कर रहा PAK: भारतीय विदेश मंत्रालय     ||   IIM कोझिकोड में बोले पीएम मोदी- भारतीय चिंतन में दुनिया की बड़ी समस्याओं को हल करने का है सामर्थ    ||   बिहार में रेलवे ट्रैक पर आई बैलगाड़ी को ट्रेन ने मारी टक्कर, 5 लोगों की मौत, 2 गंभीर रूप से घायल     ||   CAA और 370 पर बोले मालदीव के विदेश मंत्री- भारत जीवंत लोकतंत्र, दूसरे देशों को नहीं करना चाहिए दखल     ||   जेएनयू के वाइस चांसलर जगदीश कुमार ने कहा- हिंसा को लेकर यूनिवर्सिटी को बंद करने की कोई योजना नहीं     ||   मायावती का प्रियंका पर पलटवार- कांग्रेस ने की दलितों की अनदेखी, बनानी पड़ी BSP     ||   आर्मी चीफ पर भड़के चिदंबरम, कहा- आप सेना का काम संभालिए, राजनीति हमें करने दें     ||   राजस्थान: BJP प्रतिनिधिमंडल ने कोटा के अस्पताल का दौरा किया, 48 घंटों में 10 नवजात शिशुओं की हुई थी मौत     ||   दिल्ली: दरियागंज हिंसा के 15 आरोपियों की जमानत याचिका पर 7 जनवरी को सुनवाई करेगा तीस हजारी कोर्ट     ||

पाटीदार आंदोलन में हिंसा फैलाने के मामले में हार्दिक पटेल दोषी, 2 साल की सजा के साथ लगा 50 हजार रुपये का जुर्माना

अंग्वाल न्यूज डेस्क
पाटीदार आंदोलन में हिंसा फैलाने के मामले में हार्दिक पटेल दोषी, 2 साल की सजा के साथ लगा 50 हजार रुपये का जुर्माना

नई दिल्ली। गुजरात के मेहसाणा में साल 2015 में हुए पाटीदार आंदोलन के दौरान हुई हिंसा में विसनगर कोर्ट ने बुधवार को अपना फैसला सुना दिया। कोर्ट ने अपने फैसले में पाटीदार नेता हार्दिक पटेल समेत 3 लोगों को दोषी करार दिया है जबकि 14 लोगों को बरी कर दिया है। कोर्ट ने हार्दिक पटेल और लालजी पटेल को 2 साल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही हार्दिक पटेल पर 50 हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया है। बता दें कि इसम मामले में कुल 17 लोगों को आरोपी बनाया गया था। बताया जा रहा है पाटीदार आंदोलन के दौरान भाजपा नेता के दफ्तर पर हमला कर दिया गया था और तोड़फोड़ के साथ आगजनी की घटना को भी अंजाम दिया गया था। 

गौरतलब है कि मेहसाणा जिले में साल 2015 में जबर्दस्त पाटीदार आंदोलन हुआ था। इस आंदोलन के दौरान पहले भाजपा नेता ऋषिकेश के कार्यालय पर हमला कर तोड़ फोड़ की गई और इसके बाद पूरे इलाके में भारी हिंसा और आगजनी की घटना  हुई थी। बता दें कि हार्दिक पटेल पाटीदारों के लिए आरक्षण की मांग कर रहे थे। इस दौरान उनकी गिरफ्तारी भी हुई थी। इसके बाद उनके समर्थक भड़क गए और कई इमारतों में आग लगा दी थी। 

ये भी पढ़ें - LIVE - पाकिस्तान के क्वेटा में मतदान के दौरान ब्लास्ट, 30 की मौत 35 घायल


यहां बता दें कि आंदोलन के दौरान सुरक्षा व्यवस्था को खतरा देखते हुए मेहसाणा, राजकोट और सूरत में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई थी और कई इलाकों मंे कफ्र्यू भी लगा दिया गया था। बता दें कि इस मामले को लेकर गुजरात के मेहसाणा में हार्दिक पटेल की गिरफ्तारी भी हुई थी। जिसके बाद पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) ने बंद का ऐलान किया है। लोगों को काबू में करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज और आंसू गैस का सहारा लेना पड़ा था।

 

Todays Beets: