Saturday, October 19, 2019

Breaking News

   दिल्ली में भी भोपाल जैसा हनी ट्रैप , कई रईसजादों को विदेशी लड़कियों की मदद से फंसाया    ||   घाटी में घनघटाने लगीं मोबाइल फोन की घंटियां, इंटरनेट पर अभी भी प्रतिबंध    ||   इकबाल मिर्ची की इमारत में प्रफुल्ल पटेल का भी फ्लैट , ईडी ने भेजा समन    ||   रणवीर सिंह ने ठुकराया संजय लीला भंसाली की फिल्म का ऑफर , आलिया भट्ट हैं फिल्म की हिरोइन    ||   वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण के पति ने भी माना- अर्थव्यवस्था की हालत खराब     ||   दिल्ली में डेंगू ने तोड़ा रिकॉर्ड, इस हफ्ते में 111 नए मामले आए सामने     ||   अगस्ता वेस्टलैंड मनी लॉन्ड्रिंग केस: 25 अक्टूबर तक बढ़ी रतुल पुरी की न्यायिक हिरासत     ||   तमिलनाडु: मसाले की फैक्ट्री में लगी आग, मौके पर दमकल की गाड़ियां मौजूद     ||   Parle में छंटनी का संकट: मयंक शाह बोले- सरकार से अहसान नहीं मांग रहे     ||   ILFS लोन मामले में MNS प्रमुख राज ठाकरे से ED की पूछताछ    ||

हुर्रियत - अलगाववादियों से बातचीत नहीं करेगी मोदी सरकार , अमित शाह बोले- देश में जो पहले होता आया है अब नहीं होगा - सूत्र

अंग्वाल न्यूज डेस्क
हुर्रियत - अलगाववादियों से बातचीत नहीं करेगी मोदी सरकार , अमित शाह बोले- देश में जो पहले होता आया है अब नहीं होगा - सूत्र

नई दिल्ली  । मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल की शुरुआत के साथ ही पिछले दिनों जम्मू कश्मीर के हुर्रियत और अलगाववादियों ने सरकार से बातचीत की पेशकश की थी । लेकिन गृहमंत्रालय के सूत्रों की मानें तो गृहमंत्री अमित शाह ने साफ कर दिया है कि अब घाटी के अलगाववादियों के साथ कोई बातचीत नहीं होगी । सरकार ने अलगाववादियों की शर्ते मानने से भी इनकार कर दिया है । इतना ही नहीं अमित शाह ने साफ कर दिया है कि अभी तक जो होता रहा है, अब वो नहीं होगा । मंत्रालय की ओर से ये संकेत ऐसे समय में आए हैं जब हाल में राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने अलगाववादियों से बातचीत के मुद्दे पर कहा था कि इसपर फैसला दिल्ली से होगा। इसी क्रम में अमित शाह बुधवार को जम्मू कश्मीर का दौरा करने के साथ ही अमरनाथ यात्रा की सुरक्षा व्यवस्था का जायजा लेंगे ।  

ममता बनर्जी के भतीजे अभिषेक का विवादित बयान, बोले- यदि कोई जय श्रीराम बोले तो आप ...राम नाम सत्‍य है बोलो

आपको बता दें कि कि नवनियुक्त गृहमंत्री अमित शाह बुधवार को जम्मू कश्मीर के दौरे पर जाने वाले हैं । वहीं घाटी के अलगाववादी नेताओं की बातचीत की पेशकश के बीच अमित शाह ने साफ कर दिया है कि अभी तक जो होता रहा है अब वो नही होगा । अलगाववादियों से बातचीत संविधान और कानून के दायरे में ही होगी । मंत्रालय के सूत्रों के अनुसार , अमित शाह ने साफ कर दिया है कि देश से बडा कोई नहीं है । जो भी दोषी पाया जाएगा, उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी ।


भारत के दबाव में मेहुल चौकसी की नागरिकता रद्द करेगा एंटीगा , जल्द लाया जाएगा स्वदेश

जानकारी के मुताबिक , केंद्र में मोदी सरकार के प्रचंड बहुमत से दोबारा आने के बाद सरकार के कड़े रुख से घाटी के हुर्रियत नेता घबराए हुए हैं। यही कारण है कि हुर्रियत नेता अब बातचीत के लिए नए रास्तों की तलाश कर रहे हैं । अभी आलम यह है कि कई हुर्रियत और अलगाववादी नेता टेरर फंडिग के मामले में जेल में हैं । इस वजह से हुर्रियत लीडरशिप दवाब में है । जेल में बंद कई नेता हुर्रियत लीडरशिप पर अपना दवाब डाल रहे हैं कि मोदी सरकार से बातचीत की जाए ।

इस सब के बीच अलगाववादियों से बातचीत के मुद्दे पर जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने पिछले दिनों कहा था कि इसपर फैसला दिल्ली से होगा, लेकिन ये बात हर किसी को समझ लेनी चाहिए कि बंदूक से बात नहीं बनेगी । सत्यपाल मलिक ने कहा, ''हुर्रियत बातचीत के लिए तैयार है, अब उनसे बातचीत होनी चाहिए और पाकिस्तान के साथ भी बातचीत होनी चाहिए।

Todays Beets: