Wednesday, June 26, 2019

Breaking News

   आईबी के निदेशक होंगे 1984 बैच के आईपीएस अरविंद कुमार, दो साल का होगा कार्यकाल    ||   नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत का कार्यकाल सरकार ने दो साल बढ़ाया    ||   BJP में शामिल हुए INLD के राज्यसभा सांसद राम कुमार कश्यप और केरल के पूर्व CPM सांसद अब्दुल्ला कुट्टी    ||   टीम इंडिया की जर्सी पर विवाद के बीच आईसीसी ने दी सफाई, इंग्लैंड की जर्सी भी नीली इसलिए बदला रंग    ||   PIL की सुनवाई के लिए SC ने जारी किया नया रोस्टर, CJI समेत पांच वरिष्ठ जज करेंगे सुनवाई    ||   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||

संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
संयुक्त राष्ट्र में भारत की बड़ी जीत, सबसे ज्यादा अंतर से मानवाधिकार परिषद का बना सदस्य 

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष मानवाधिकार संस्था में देर शाम एक बड़ी सफलता मिली है।  भारत को 3 साल के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद का सदस्य चुन लिया गया है। संयुक्त राष्ट्र की 193 सदस्यीय महासभा में एशिया-प्रशांत को 188 वोट प्राप्त हुए हैं। बता दें कि परिषद के सदस्य गुप्त मतदान द्वारा पूर्ण बहुमत के आधार पर चुने जाते हैं। परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत होती है। भारत का कार्यकाल एक जनवरी 2019 से शुरू होगा। गुप्त मतदान के जरिए 18 नए सदस्यों को चुना गया है।

गौरतलब है कि एशिया-प्रशांत क्षेत्र के मानवाधिकार परिषद में कुछ 5 सीटें हैं। इस सीट के लिए भारत के अलावा बहरीन, बांग्लादेश, फिजी और फिलीपीन ने अपना नामांकन भरा था। पांचों सीटों के लिए अलग दावेदार होने की वजह से इन सभी का निर्विरोध चुना जाना तय था। बता दें कि मानवाधिकार परिषद में भारत का कार्यकाल 1 जनवरी, 2019 से शुरू होकर 3 साल तक चलेगा। गौर करने वाली बात है कि भारत पहले भी 2011-2014 और 2014 से 2017 दो बार मानवाधिकार परिषद का सदस्य रह चुका है। भारत का अंतिम कार्यकाल 31 दिसंबर, 2017 में समाप्त हुआ था।


ये भी पढ़ें - पुलवामा में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी, 1 को किया ढेर 1 फरार, सर्च आॅपरेशन जारी

यहां बता दें कि चुनाव से पहले संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थाई प्रतिनिधि सैयद अकबरूद्दीन ने ट्वीट किया कर कहा था कि ‘बहरीन, बांग्लादेश, फिजी, भारत और फिलीपीन ने संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में एशिया-प्रशांत क्षेत्र की 5 सीटों के लिए दावा पेश किया।’’ बता दें कि गुप्त मतदान के जरिए 18 नए सदस्यों को चुना गया है।  परिषद के सदस्यों ने गुप्त मतदान किया और भारत को सबसे ज्यादा वोट देकर परिषद का सदस्य चुना। बता दें कि परिषद में चुने जाने के लिए किसी भी देश को कम से कम 97 वोटों की जरूरत होती है।

Todays Beets: