Monday, August 10, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

भारतीय सेना ने जहां से उखाड़ फेंके थे चीन के ''तंबू'' , चीनी सेना ने वहां दोबारा ली पॉजिशन , जुटाया ज्यादा सामान 

अंग्वाल न्यूज डेस्क
भारतीय सेना ने जहां से उखाड़ फेंके थे चीन के

नई दिल्ली । भारत और चीन के बीच पिछले दिनों गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प में जहां भारत के 20 जवान शहीद हुए थे , हालांकि भारतीय जवानों ने चीन के करीब 45 जवानों को भी ढेर कर दिया था । इस हिंसा के बाद दोनों देशों के आला अधिकारी लगातार तनाव कम करने के प्रयास कर रहे हैं। लेकिन चीन इस दौरान धोखा देने से बाज नहीं आ रहा है , जहां चीन ने बातचीत में पीछे हटने की बात मानी , वहीं गलवान घाटी के करीब उसकी नई साजिश जारी है ।  ताजा सैटेलाइट तस्वीरों में सामने आया है कि जिस जगह से भारतीय जवानों ने चीनी सैनिकों को खदेड़ा था , एक बार फिर से वहां चीन ने अपनी मौजूदगी और मजबूती के साथ पेश की है । 

इतना ही नहीं गलवान घाटी से इतर चीन की ओर से पैंगोंग लेक के पास कुछ अन्य मोर्चों पर अपनी सेना की मौजूदगी और साजो-सामान को बढ़ाया गया है । इन गतिविधियों ने एक बार फिर से चीन के दोहरे चरित्र को अंतरराष्ट्रीय समुदाय के सामने रखा है ।


सैटेलाइट तस्वीरों को देखने के बाद विशेषज्ञों का कहना है कि ग्राउंड जीरो की नई सैटेलाइट तस्वीरों से साफ हुआ है कि 15 जून के बाद 22 जून को अब दोनों सेनाओं की ओर से नए टेंट लगाए गए हैं । 22 जून को ही की सेनाओं के कोर कमांडर स्तर की वार्ता हुई थी। उस दिन ली गई तस्वीरों से पेट्रोल प्वॉइंट 14 के पास चीनी सेना का नया फॉरवर्ड बिल्ड-अप दिखता है । सैटेलाइट तस्वीर में इस प्वॉइंट के पीछे चीनी पक्ष की ओर बड़े पैमाने पर निर्माण कार्य दिख रहा है ।

विशेषज्ञों का कहना है कि यह बात साफ हो गई है कि चीन ने बातचीत के बाद भले ही पीछे हटने की बात मानी हो , लेकिन ग्राउड जीरो पर चीन पीछे नहीं हटा है । इतना ही नहीं उसने उस जगह पर पहले से ज्यादा तंबु लगाने के साथ ही अपनी स्टोरेज क्षमता को भी बढ़ा लिया है । 

Todays Beets: