Tuesday, June 25, 2019

Breaking News

   अमित शाह बोले - साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के गोसडे पर दिए बयान से भाजपा का सरोकार नहीं    ||   भाजपा के संकल्प पत्र में आतंकवाद और भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई का वादा     ||   सुप्रीम कोर्ट ने लोकसभा चुनाव में ईवीएम और वीवीपैट के मिलान को पांच गुना बढ़ाया    ||    दिल्लीः NGT ने जर्मन कार कंपनी वोक्सवैगन पर 500 करोड़ का जुर्माना ठोंका     ||    दिल्लीः राहुल गांधी 11 मार्च को बूथ कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करेंगे     ||    हैदराबाद: टीका लगाने के बाद एक बच्चे की मौत, 16 बीमार पड़े     ||   मध्य प्रदेश के ब्रांड एंबेसडर होंगे सलमान खान, CM कमलनाथ ने दी जानकारी     ||   पाकिस्तान को FATF से मिली राहत, ग्रे लिस्ट में रहेगा बरकरार     ||   आय से अधिक संपत्ति केसः हिमाचल के पूर्व CM वीरभद्र सिंह के खिलाफ आरोप तय     ||   भीमा-कोरेगांव केसः बॉम्बे HC ने आनंद तेलतुंबड़े की याचिका पर सुनवाई 27 तक टाली     ||

सीबीआई में ‘वर्चस्व की लड़ाई’ आई सामने, निदेशक और अस्थाना ने एक-दूसरे पर लगाए आरोप

अंग्वाल न्यूज डेस्क
सीबीआई में ‘वर्चस्व की लड़ाई’ आई सामने, निदेशक और अस्थाना ने एक-दूसरे पर लगाए आरोप

नई दिल्ली। देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी सीबीआई में भी वर्चस्व की लड़ाई जारी है। सीबीआई के निदेशक आलोक वर्मा और उनके अंदर काम करने वाले विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच आपसी लड़ाई उस समय सामने आ गई जब आलोक वर्मा ने राकेश अस्थाना के उनके बारे में दिए गए बयानों को दुर्भावनापूर्ण और ‘छिछोरा’ बता दिया। बता दें कि सीबीआई करीब आधा दर्जन मामलों में अस्थाना की भूमिका की जांच कर रही है।

गौरतलब है कि सीबीआई के प्रवक्ता ने राकेश अस्थाना पर उनके खिलाफ जांच कर रहे अधिकारियों को धमकाने का आरोप लगाया है। सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा ने कहा कि अस्थाना अपने ऊपर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच कर रहे अधिकारियों को धमका रहे हैं। गौर करने वाली बात है कि सीबीआई के प्रवक्ता ने राकेश अस्थाना के उस आरोप को भी नकार दिया जिसमें उन्होंने कहा था कि आलोक वर्मा ने उन्हें कई अहम मामलों की जांच को रोकने के आदेश दिए थे। बता दें कि इसमें आईआरसीटीसी का भी मामला है जिसमें राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद और उनका परिवार फंसा है।


ये भी पढ़ें - नौकरी छोड़ने की चेतावनी का घाटी के नौजवानों ने दिया करारा जवाब, एसपीओ में भर्ती के लिए 10 हजार...

यहां बता दें कि राकेश अस्थाना ने केंद्रीय सर्तकता आयोग को पत्र लिखकर इसकी शिकायत की थी। गौर करने वाली बात है कि आलोक वर्मा ने भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उनकी पदोन्नती का विरोध किया था। हालांकि बाद में सीवीसी ने उन्हें क्लीन चिट दे दी और सुप्रीम कोर्ट ने भी उनकी पदोन्नती पर मुहर लगा दी। बताया जा रहा है कि अब दोनों अधिकारियों के द्वारा एक दूसरे पर लगाए जा रहे आरोपों के बाद सरकार भी सकते में आ सकती है। 

Todays Beets: