Monday, July 22, 2019

Breaking News

   सूरत: सभी मोदी चोर कहने का मामला, 10 अक्टूबर को हो सकती है राहुल गांधी की पेशी     ||   मुंबई: इमारत गिरने पर बोले MIM नेता वारिस पठान- यह हादसा नहीं, हत्या है     ||   नीरज शेखर के इस्तीफे पर बोले रामगोपाल यादव- गुरु होने के नाते आशीर्वाद दे सकता हूं     ||   लखनऊ: खनन घोटाले में ED ने पूर्व खनन मंत्री गायत्री प्रजापति से पूछताछ की     ||   पोंजी घोटाला: पूछताछ के बाद बोले रोशन बेग- हज पर नहीं जा रहा, जांच में करूंगा सहयोग    ||    संसदीय दल की बैठक में PM मोदी ने कहा- जरूरत पड़ी तो सत्र बढ़ाया जा सकता है     ||   केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद ने बताया- सुप्रीम कोर्ट में जजों की कमी नहीं    ||    AAP नेता इमरान हुसैन ने बीजेपी नेता विजय गोयल और मनजिंदर सिंह सिरसा के खिलाफ की शिकायत    ||   राहुल गांधी के इस्तीफे पर केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा- जय श्रीराम    ||   यूपी सरकार का 17 जातियों को SC की लिस्ट में डालने का फैसला असंवैधानिक: थावर चंद गहलोत    ||

LIVE: कर्नाटक के राजनीतिक भविष्य पर 'सुप्रीम' मुहर, 28 घंटे के अंदर बहुमत साबित करे भाजपा

अंग्वाल न्यूज डेस्क
LIVE: कर्नाटक के राजनीतिक भविष्य पर

नई दिल्ली। कर्नाटक की राजनीति के भविष्य का फैसला शुक्रवार को सुप्रीम कोर्ट ने कर दिया है।  कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि येदियुरप्पा की सरकार को शनिवार शाम 4 बजे  करने का आदेश दिया है।  दोनों ही पार्टियों की तरफ से पेश हुए वकील ने अपनी-अपनी दलीलें दी हैं। कांग्रेस की तरफ से पेश हुए अभिषेक मनु सिंघवी ने राज्यपाल के फैसले पर ही सवाल उठा दिया और कहा कि जब उनके पास बहुमत नहीं था तो सरकार बनाने की न्योता कैसे दिया गया? सुप्रीम कोर्ट ने इस पर भी सवाल पूछा कि येदियुरप्पा को न्योता कैसे दिया गया, इस पर भाजपा की तरफ से पेश हुए वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि राज्यपाल ने अपने विवेकाधिकार का इस्तेमाल करते हुए भाजपा को निमंत्रण दिया  था।

ये भी पढ़ें - कर्नाटक राजनीतिः भाजपा से डरी कांग्रेस और जेडीएस, विधायकों को बंगलुरु से हैदराबाद किया शिफ्ट


गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपनी टिप्पणी में कहा कि हमकोई राजनीतिक लड़ाई में नहीं पड़ रहे हैं। जस्टिस सीकरी ने अपनी टिप्पणी में कहा कि विवाद को आगे बढ़ाने से बेहतर है कि बहुमत का परीक्षण कल ही हो। जस्टिस बोवडे ने भी यह कहा कि जिसे बहुमत मिला है वह बहुमत साबित करे। उन्होंने कहा कि आखिरी फैसला विधानसभा में ही होना चाहिए। बता दें कि सुप्रीम कोर्ट के द्वारा दिए गए आदेश के बाद अब येदियुरप्पा को 24 घंटे के अंदर बहुमत साबित करना होगा। सुप्रीम कोर्ट में कांग्रेस और जेडीएस के विधायक ने कहा कि वे कल भी बहुमत परीक्षण के लिए तैयार हैं। वहीं भाजपा के वकील मुकुल रोहतगी ने इसके लिए कम से कम एक सप्ताह का समय देने की मांग की थी। 

Todays Beets: