Monday, August 10, 2020

Breaking News

   राजस्थान में फिर सियासी ड्रामा, BJP के बहाने गहलोत-पायलट में ठनी     ||   कानपुर गोलीकांड की जांच के लिए एसआईटी गठित, 31 जुलाई तक सौंपनी होगी रिपोर्ट     ||   धमकी देकर फरीदाबाद में रिश्तेदार के घर रुका था विकास, अमर दुबे से हुआ था झगड़ा     ||   राजस्थान: विधायकों को राज्य से बाहर जाने से रोकने के लिए सीमा पर बढ़ाई गई चौकसी     ||   हार्दिक पटेल गुजरात प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त     ||   गुवाहाटी केंद्रीय जेल में बंद आरटीआई कार्यकर्ता अखिल गोगोई समेत 33 कैदी कोरोना पॉजिटिव     ||   अमिताभ बच्चन कोरोना पॉजिटिव, नानावती अस्पताल में कराए गए भर्ती     ||   राजस्थान सरकार का प्राइवेट स्कूलों को आदेश- स्कूल खुलने तक फीस न लें     ||   गुजरात सरकार में मंत्री रमन पाटकर कोरोना वायरस से संक्रमित     ||   विकास दुबे पर पुलिस की नाकामी से भड़के योगी, खुद रख रहे ऑपरेशन पर नजर!     ||

केजरीवाल मदरसों में भी हनुमान चालिसा का पाठ करवाएं , कृपा से दिल्ली के बच्चे क्यों वंचित रहें - विजयवर्गीय

अंग्वाल न्यूज डेस्क
केजरीवाल मदरसों में भी हनुमान चालिसा का पाठ करवाएं , कृपा से दिल्ली के बच्चे क्यों वंचित रहें - विजयवर्गीय

भोपाल । दिल्ली विधानसभा चुनावों में आम आदमी पार्टी ने एक बार फिर से प्रचंड बहुमत पाते हुए भाजपा-कांग्रेस जैसी राष्ट्रीय पार्टी को आइना दिखाया है । हालांकि इस सब के बावजूद अभी भी दिल्ली चुनावों के दौरान जारी विवादित बयानों का क्रम टूट नहीं रहा है । अब भाजपा के वरिष्ठ नेता कैलैश विजयवर्गीय ने कुछ ऐसा बोल दिया कि कुछ लोगों का मुंह कड़वा हो गया है । चुनाव में अरविंद केजरीवाल की तीसरी जीत पर उन्हें बधाई देते हुए विजयवर्गीय ने कहा कि निश्चित ही जो हनुमानजी की शरण में जो आता है उसे आशीर्वाद मिलता है । अब समय आ गया है कि हनुमान चालीसा का पाठ दिल्ली के सभी विद्यालयों, मदरसों सहित सभी शैक्षणिक संस्थानों में भी जरूरी हो । बजरंगबली की कृपा से अब 'दिल्लीवासी' बच्चे क्यों वंचित रहें?'

बता दें कि अपने विवादित बयानों को लेकर अमूमन सुर्खियों में रहने वाले कैलाश विजयवर्गीय पार्टी को भी कई बार मुसीबत में डाल चुके हैं । एक बार फिर दिल्ली विधानसभा चुनावों में हनुमानजी को लेकर हुई बहस को आगे बढ़ाने का काम कैलाश विजयवर्गीय ने किया है। विजयवर्गीय की टिप्पणी के बाद उच्च शिक्षा मंत्री ने पलटवार किया ।  उन्होंने कहा कि वे खुद भी हनुमान चालीसा का पाठ रोजाना करते हैं । हमारे संविधान में सभी को अपने अपने आराध्य की पूजा करने, अलग-अलग धर्मों को मनाने की स्वतंत्रता है । इस पद्धति पर किसी का अंकुश नहीं हो सकता. बीजेपी की सोच-विचार में यही क्रूरता है कि वह सोचती है कि हमारे हिसाब से सब चलें । भाजपा की इसी सोच के खिलाफ दिल्ली का मतदान हुआ है ।  दिल्ली का रिजल्ट भाजपा पर तमाचा है । 


विदित हो कि भाजपा के आरोपों का जवाब देते हुए केजरीवाल ने कहा था कि वो हनुमान जी के भक्त हैं । हालांकि हनुमान मंदिर जाने और उनपर भाजपा दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी के बयानों से मामले को गर्मा दिया था ।  दिल्ली में मतदान से एक दिन पहले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल कनॉट प्लेस के हनुमान मंदिर पहुंचकर पूजा-अर्चना की थी । चुनाव जीतने के बाद भी केजरीवाल ने इसे हनुमान जी की कृपा बताई थी।  

Todays Beets: